Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 26, 2016 · 1 min read

जागरूक !

वे जागरूक हैं ।

अधिकारों के लिये ।

खूब लड़ते हैं ।

धरना ,प्रदर्शन और

बंद खूब करते हैं ।

पर अपने कर्तव्यों में ,

भरसक टाल मटोल करते हैं।

कोई वोट नहीं देते

पर सरकार को कोसते है ।

कोई वोट देकर समझते हैं ।

सरकार खरीद ली ।

123 Views
You may also like:
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
रोहिणी नन्दन मिश्र
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
स्वाधीनता
AMRESH KUMAR VERMA
✍️मी फिनिक्स...!✍️
"अशांत" शेखर
उफ्फ! ये गर्मी मार ही डालेगी
Deepak Kohli
✍️स्त्री : दोन बाजु✍️
"अशांत" शेखर
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H. Amin
खूबसूरत एहसास.......
Dr. Alpa H. Amin
चल अकेला
Vikas Sharma'Shivaaya'
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️दो और दो पाँच✍️
"अशांत" शेखर
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
बदरवा जल्दी आव ना
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
पिता घर की पहचान
vivek.31priyanka
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी
Shivkumar Bilagrami
आस्था और भक्ति
Dr. Alpa H. Amin
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हनुमान जयंती पर कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...