Aug 30, 2016 · 1 min read

जागते जागते दोपहर हो गयी

ना रही ये खबर कब सहर हो गयी
जागते जागते दोपहर हो गयी …

तर्बियत रंजिशों को नज़र हो गयी
आशियाने वफ़ा खंडहर हो गयी ..

सरहदों की हिफाज़त में मुश्किल नहीं
जिन्दगी तो शहर में ज़हर हो गयी …..

राह आसां कहाँ अब अमन की यहाँ
रहजनों के हवाले डगर हो गयी……

ऐसी तब्दीलियाँ आ गयी जिन्दगी में
बात ए तहजीब भी मुख़्तसर हो गयी ….

जितेन्द्र “जीत”

119 Views
You may also like:
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
नई तकदीर
मनोज कर्ण
इशारो ही इशारो से...😊👌
N.ksahu0007@writer
*~* वक्त़ गया हे राम *~*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
ये चिड़िया
Anamika Singh
तुम मेरी हो...
Sapna K S
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
* राहत *
Dr. Alpa H.
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खुशबू चमन की किसको अच्छी नहीं लगती।
Taj Mohammad
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
कारस्तानी
Alok Saxena
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-17💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H.
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
A Warrior Of The Darkness
Manisha Manjari
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
💐💐प्रेम की राह पर-15💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...