Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 29, 2017 · 1 min read

ज़िन्दगी

एक झोंके ने
कुछ बातें पुरानी,
ताज़ा बना गई ।
मोतियों की चमक,
साँसों की गुलाबी
महक छा गई ।
कुछ परतें
जमी थी जिल्दों पर,
पन्ने फड़फड़ा उठे
रंग-बिरंगी ,
दफ़्न तस्वीरें
नज़र आ गईं ।
टुकड़ों में बंटी
तितर-बितर फैली,
गाल फुलाए अकड़ी ,
अब तक की ज़िन्दगी ,
नज़र पीछे सरसरी जो डाली,
बेचारी नज़र आ गई !

नरेन्द्र ।

157 Views
You may also like:
दुर्गावती:अमर्त्य विरांगना
दीपक झा रुद्रा
क्या करें हम भुला नहीं पाते तुम्हे
VINOD KUMAR CHAUHAN
बदलती दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
सफर में।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-21💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
मैं
Saraswati Bajpai
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
आ तुझको बसा लूं आंखों में।
Taj Mohammad
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
💐💐सुषुप्तयां 'मैं' इत्यस्य भासः न भवति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
परेशां हूं बहुत।
Taj Mohammad
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
Ravi Prakash
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
लोकसभा की दर्शक-दीर्घा में एक दिन: 8 जुलाई 1977
Ravi Prakash
आप से हैं गुज़ारिश हमारी.... 
Dr. Alpa H. Amin
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
इंसानियत बनाती है
gurudeenverma198
पानी के लिए लड़ेगी दुनिया, नहीं मिलेगा चुल्लू भर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राम ! तुम घट-घट वासी
Saraswati Bajpai
बेफिक्री का आलम होता है।
Taj Mohammad
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण
मेरे पापा
Anamika Singh
तेरे रोने की आहट उसको भी सोने नहीं देती होगी
Krishan Singh
कोहिनूर
Dr.sima
Loading...