Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2022 · 1 min read

ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी

मुफ़लिसो की बेबसी देखी ।
ज़िंदगी में न जिंदगी देखी ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
9 Likes · 141 Views
You may also like:
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हो पाए अगर मुमकिन
Shivkumar Bilagrami
आंखों के दपर्ण में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
गुमनामी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बरसात
प्रकाश राम
*जैसे खिले गुलाब (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
तोड़ दे अब जंजीरें
Shekhar Chandra Mitra
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
शाइ'राना है तबीयत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मां महागौरी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर इंसा हार जाता है अपने इश्क को भुलानें में।
Taj Mohammad
【29】!!*!! करवाचौथ !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्रिय आदर्श शिक्षक
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
*तुम साँझ ढले चले आना*
Shashi kala vyas
पुराना है
AJAY PRASAD
दिल को खुशी
shabina. Naaz
वो_हमे_हम उन्हें_ याद _आते _रहेंगे
कृष्णकांत गुर्जर
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
✍️नियत में जा’ल रहा✍️
'अशांत' शेखर
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मित्रता दिवस
Dr Archana Gupta
वफा और बेवफा
Anamika Singh
दया करो भगवान
Buddha Prakash
तोड़ देना चाहे ,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...