Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

ज़िंदगी को चुना

मैंने ज़िंदगी को चुना
तब भी ,जब
मोम बन कर पिघल जाना
तय था मेरा,
या
भाप बन कर उड़ जाना मेरा
फिर भी मैंने ज़िंदगी को चुना
जैसे चुनता है फूल
पत्थर से भी निकल आना
हँसना और मुस्कुराना……

6 Likes · 4 Comments · 213 Views
You may also like:
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
पिता
Keshi Gupta
आदर्श पिता
Sahil
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
माँ की याद
Meenakshi Nagar
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
समय ।
Kanchan sarda Malu
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
विजय कुमार 'विजय'
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
बाबू जी
Anoop Sonsi
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...