Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-208💐

ज़माने भर को देखकर तोहमत लगा मुझे,
उम्मीद पूरी करिये दिल से उम्मीद न लगाइए।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
ध्यान
ध्यान
विशाल शुक्ल
काले घने बादल ढक लेते हैँ आसमां कुछ पल के लिए,
काले घने बादल ढक लेते हैँ आसमां कुछ पल के लिए,
Dr. Rajiv
मंजिल का ना पता है।
मंजिल का ना पता है।
Taj Mohammad
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
सर्दी का मौसम
सर्दी का मौसम
Ram Krishan Rastogi
शांति अमृत
शांति अमृत
Buddha Prakash
घोर अंधेरा ................
घोर अंधेरा ................
Kavita Chouhan
प्रणय-निवेदन
प्रणय-निवेदन
Shekhar Chandra Mitra
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Sanjay ' शून्य'
मित्रता:समाने शोभते प्रीति।
मित्रता:समाने शोभते प्रीति।
Acharya Rama Nand Mandal
जो दिल के पास रहते हैं
जो दिल के पास रहते हैं
Ranjana Verma
उम्मीद
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
फ़ासला
फ़ासला
मनोज कर्ण
ਮੈਂ ਕਿਹਾ ਸੀ ਉਹਨੂੰ
ਮੈਂ ਕਿਹਾ ਸੀ ਉਹਨੂੰ
Surinder blackpen
ज़िंदगी का सफ़र
ज़िंदगी का सफ़र
Dr fauzia Naseem shad
■ आ चुका है वक़्त।
■ आ चुका है वक़्त।
*Author प्रणय प्रभात*
किया है तुम्हें कितना याद ?
किया है तुम्हें कितना याद ?
The_dk_poetry
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
जिंदगी की बेसबब रफ्तार में।
जिंदगी की बेसबब रफ्तार में।
सत्य कुमार प्रेमी
डाल-डाल पर फल निकलेगा
डाल-डाल पर फल निकलेगा
Anil Mishra Prahari
कलम ये हुस्न गजल में उतार देता है।
कलम ये हुस्न गजल में उतार देता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
💐प्रेम की राह पर-53💐
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*वंदनीय सेना (घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद*
*वंदनीय सेना (घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद*
Ravi Prakash
"हिंदी से हिंद का रक्षण करें"
पंकज कुमार कर्ण
" आज भी है "
Aarti sirsat
समय आयेगा
समय आयेगा
नूरफातिमा खातून नूरी
Jo milta hai
Jo milta hai
Sakshi Tripathi
हम और हमारे 'सपने'
हम और हमारे 'सपने'
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
Book of the day: काव्य संग्रह
Book of the day: काव्य संग्रह
Sahityapedia
"मीलों में नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...