Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2016 · 1 min read

जहां पर गलतियों का मेरी मंजर ख़त्म होता है —ग़ज़ल।

गजल
जहां पर गलतियों का मेरी मंजर ख़त्म होता है
वही जीवन का मुश्किल वक्त अक्सर ख़त्म होता है

मगर इल्जाम से पहले न देखा आइना खुद जब
जहानत का वो दावा फिर यहीं पर ख़त्म होता है

बड़े मौके तुम्हारे सामने आकर खड़े होंगे
न हिम्मत हारना जब एक अवसर ख़त्म होता है

सफीना डूबने का डर रहेगा तब तलक उसको
के जब तक चापलूसों का न लश्कर ख़त्म होता है

रुके सदियों से पलकों पर इन्हें बहने दो के जब तक
जमीं से आसमां तक का समंदर ख़त्म होता है

जफ़ा के तीर चुभते हैं जिगर में दर्द सा रहता
मुझे अब देखना कब ये जिगर पर ख़त्म होता हैं

उड़ूँगी हौसलो के पर लगा ऊंची उड़ाने अब
जहां तक फैला सारा ही ये अम्बर ख़त्म होता है

किसी ने कह लिया होता किसी ने सुन लिया होता
यहां का आपसी झगड़ा तो मिलकर ख़त्म होता है

कसक गम दर्द बिन जीवन न जीवन ही लगे निर्मल
मेरा हर दर्द थोड़ी चोट खाकर ख़त्म होता है

4 Comments · 180 Views
You may also like:
वफ़ा
Seema 'Tu hai na'
तुम्हीं तो हो ,तुम्हीं हो
Dr.sima
इंतज़ार
Alok Saxena
हास्य कथा : वजन पचपन किलो
Ravi Prakash
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
किसी के दर्द को
Dr fauzia Naseem shad
Writing Challenge- बारिश (Rain)
Sahityapedia
"घास वाला टिब्बा"
Dr Meenu Poonia
बूंद बूंद में जीवन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
बहुत बुरा लगेगा दोस्त
gurudeenverma198
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
सात अंगना के हमरों बखरियां सखी
Er.Navaneet R Shandily
तिरंगा मेरी जान
AMRESH KUMAR VERMA
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अल्फाज़
Dr.S.P. Gautam
जिंदगी के उस मोड़ पर
shabina. Naaz
मै तैयार हूँ
Anamika Singh
मानव इतिहास के महानतम् मार्शल आर्टिस्टों में से एक "Bruce...
Pravesh Shinde
मेरे आँगन में इक लड़की
rkchaudhary2012
Freedom
Aditya Prakash
गजानन
Seema gupta ( bloger) Gupta
माँ कात्यायनी
Vandana Namdev
गांधी के साथ हैं हम लोग
Shekhar Chandra Mitra
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
■ दैनिक लेखन स्पर्द्धा के अन्तर्गय
*प्रणय प्रभात*
JNU CAMPUS
मनोज शर्मा
तोड़ देना चाहे ,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
Loading...