Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2016 · 1 min read

जहर खिलाए आदमी तरकारी के नाम (दोहे)

करता जाता आदमी, ऐसे भी कुछ काम !
ज़हर खिलाता बेझिझक, तरकारी के नाम !!
…………………………..
इंजेक्शन से सब्जियां, पकती आज तमाम !
सरे आम बाजार में, बिकती ऊँचे दाम !!
………………………….
पड़े नहीं जब खेत में,.. गोबर वाला खाद !
कैसे दें फिर सब्जियां, वही पुराना स्वाद !!
……………………………
जहर हो रही सब्जियाँ, ..जनता है लाचार !
तंत्र निकम्मा हो गया,पनपा छल व्यापार !!
………..……………………………………
ऐसी हालत देख कर, शासन भी है मौन !
रही लेखनी चुप अगर, तो पूछेगा कौन !!
रमेश शर्मा

Language: Hindi
Tag: दोहा
1 Like · 1 Comment · 381 Views
You may also like:
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ईद अल अजहा
Awadhesh Saxena
तेरे खेल न्यारे
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिन्दी दिवस
Aditya Prakash
*गीता की कर्म-मूलक दृष्टि के सक्रिय प्रवक्ता पंडित मुकुल शास्त्री...
Ravi Prakash
किंकर्तव्यविमुढ़
पूनम झा 'प्रथमा'
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
तुम्हारी बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कुंडलियाँ
प्रीतम श्रावस्तवी
अलविदा दिसम्बर
Dr Archana Gupta
ये दिल
shabina. Naaz
आईना
Saraswati Bajpai
कातिल है तू मेरे इश्क का / लवकुश यादव"अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
क्षमा
Shyam Sundar Subramanian
बहाना क्यूँ बनाते हो (जवाब -1)
bhandari lokesh
आम आदमी
Shekhar Chandra Mitra
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
जय जय तिरंगा
gurudeenverma198
Life's beautiful moment
Buddha Prakash
" मीनू की परछाई रानू "
Dr Meenu Poonia
💐माधवेन सह प्रीति:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आया सावन ओ साजन
Anamika Singh
माँ (ममता की अनुवाद रही)
Vijay kumar Pandey
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मजदूर- ए- औरत
AMRESH KUMAR VERMA
चाहत
जय लगन कुमार हैप्पी
एक मुद्दत से।
Taj Mohammad
✍️ सर झुकाया नहीं✍️
'अशांत' शेखर
एक शक्की पत्नि
Ram Krishan Rastogi
■ तेवरी / कक्का
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...