Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 30, 2016 · 1 min read

जहर खिलाए आदमी तरकारी के नाम (दोहे)

करता जाता आदमी, ऐसे भी कुछ काम !
ज़हर खिलाता बेझिझक, तरकारी के नाम !!
…………………………..
इंजेक्शन से सब्जियां, पकती आज तमाम !
सरे आम बाजार में, बिकती ऊँचे दाम !!
………………………….
पड़े नहीं जब खेत में,.. गोबर वाला खाद !
कैसे दें फिर सब्जियां, वही पुराना स्वाद !!
……………………………
जहर हो रही सब्जियाँ, ..जनता है लाचार !
तंत्र निकम्मा हो गया,पनपा छल व्यापार !!
………..……………………………………
ऐसी हालत देख कर, शासन भी है मौन !
रही लेखनी चुप अगर, तो पूछेगा कौन !!
रमेश शर्मा

1 Like · 1 Comment · 304 Views
You may also like:
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यादें
kausikigupta315
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
आस
लक्ष्मी सिंह
पापा
सेजल गोस्वामी
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
हम सब एक है।
Anamika Singh
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
सुन्दर घर
Buddha Prakash
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
Loading...