Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 24, 2022 · 2 min read

जहर कहां से आया

नाम न बता पाओ तो मार देंगे
आधार न दिखाओ तो मार देंगे

भंवर लाल जैन याददाश्त को चुका था
जब नाम पूछा , आधार मांगा, डर गया
जेब से निकाल, दो सौ रुपए दे चुका था
हाथ जोड़ जोड़ जाने कितना रो चुका था

मनःस्थिति जो भी हो, जान की भीख आंखों में थी
नाम न जुबां पर आया पर याचना भावों में थीं

एक थप्पड़ दो थपड्ड, थप्पड़ पर थप्पड़ घूंसा लात, मारने लगा
धर्म का नाम ले ले कर एक राक्षस, यादाश्त को चुके वृद्ध को मारने लगा

आदमी नहीं, मूक पशु सा वो पिट रहा था
आधार आधार दिखाओ को
वो क्या समझता, बस अपनी प्राण वायु बचाने प्रयास रत था

अशक्त था साधन विहीन आंख में भय भरा
प्राण जाने कब उड़ा, क्या उसे बाद तक था पता

क्या इस धरा को हो गया
न सब्र उसका ढह गया
वृद्ध को क्यों न उसने
चीर अपना वक्ष उसने अंदर किया

आदमी जो न था काबिल खुद की
सुरक्षा के लिए
क्या मुसीबत बनेगा किसी धर्म मजहब
के लिए
अंदर से जो खुद त्रास में, जी रहा था
खतरा किसी के वास्ते, वो कर रहा था

किस तरह में कहूं
मैं जन्म से किस देश का
गुरुनानक, बुद्ध, महावीर
के देश का

किसकी की लगी बद्दुआ
इस देश की ऐसी दशा
रो रहा अब दिल यहां
जो देश गांधी की करुणा
से फला
मार देते हैं फकीरों, मासूमों,
मजलूम, भूलते वृद्ध को
आधार न देने पर, नाम न बताने
पर
नकली राष्ट्रभक्त यहां

कसाई को क्या दर्द जो पशु
को काटते
इस तरह पशु को भी न
लाठियों से मारते

इतनी घृणा , इतना घृणित दिमाग
आखिर ये सब किस लिए
मानना का विनाशी मानव बने
आखिर ये सब किस लिए

डा.राजीव “सागर”

1 Like · 2 Comments · 60 Views
You may also like:
पिता
Keshi Gupta
नमन!
Shriyansh Gupta
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
कुछ कर गुज़र।
Taj Mohammad
हमें तुम भुल गए
Anamika Singh
खुदगर्ज़ थे वो ख्वाब
"अशांत" शेखर
मुझे धोखेबाज न बनाना।
Anamika Singh
उस निरोगी का रोग
gurudeenverma198
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार "कर्ण"
चंद सांसे अभी बाकी है
Arjun Chauhan
✍️हार और जित✍️
"अशांत" शेखर
* तु मेरी शायरी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
तुम्हारा हर अश्क।
Taj Mohammad
जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी
Abhishek Upadhyay
साल गिरह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
इश्क
goutam shaw
दो पल मोहब्बत
श्री रमण
गंगा माँ
Anamika Singh
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
गढ़वाली चित्रकार मौलाराम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह...
Ravi Prakash
Loading...