Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 23, 2022 · 2 min read

जवानी

हर नजर घूरता अपनेपन में और तौलता अपनेपन में सच कड़वी होती हैं।
पार्थ- द्रोपदी आप भाइयों ने क्या हारा राज – पाठ , पर मैं क्या वस्तु थी जो मुझे दाँव लगा दिए बताए । औरत का ये पहला प्रश्न अधिकार के सबंध मेंl औरत के रूप में द्रोपदी बूढ़ी होती तो क्या उसका दाँव लगता उसका मूल्य होता , बात यहाँ जवानी से था सुंदरता से था।
आज भी लड़की के गुणों को कम आँका जाता है ।
दुर्भाग्यपूर्ण व्यवस्था के बीच आज भी लड़कियां जीती है ज्यादा।जवानी उसे कैद खाना देती है। समाज उसके व्यवस्थापक ।आज भी सुंदर देह से लड़कियों का ज्यादा महत्व है। यानि उसकी रूप युक्त यौवन पर ललचा जाता हैं,वो विकृत मानसिकता जो सिर्फ लड़की ,बच्ची ,औरत को( जिस्म) देह ,वस्तु के रूप में देखता है। जवानी तो जुनून होता है।
वक्त में संभालने, सम्हलने के लिए वो अवसर या संभवानायें हैं। जिसमें जिस्म से लेकर चैतन्य तक एक नया दौर या उच्च अवस्था प्राप्त करने का । व्यक्ति क्या नहीं हो सकता हैं।
यह प्रश्न औरत पर भी लागू होता है। औरत की सारी संभावनाएं स्वार्थ की बलि चढ़ जाती हैं। पता नहीं कृष्णा कहां है,अब तक ना जाने कितने द्रोपदी, दुर्योधन ,दुशासन की भरी जवानी में बलि चढ़ गई। अपने आपसे भी, पांचो इंद्रियां (पति) जनून पर है।
अपने चैतन्य युक्त (पत्नी) को दांव लगाने के लिए।
बुरा वक्त (दुर्योधन, दुशासन है) छलावा के साथ मिलता है, जीतता है। सकारात्मक कृष्णा है जो अब बची नहीं किसी के पास प्रायः हर एक व्यक्ति आज तनाव पूर्ण अवस्था में जी रहा है।चुनौतीपूर्ण जीवन है,हरेक स्तर पर।
बचपन, जवानी, बुढ़ापा जाए भी तो किधर ये तल है जीवन के क्रमिक का जो आएगा ,वक्त मंडराता है,और छलावा करता हैं।_ डा. सीमा कुमारी,बिहार,भागलपुर,दिनांक23-6-022की मौलिक एवं स्वरचित रचना जिसे आज प्रकाशित कर रही हूं।

1 Like · 93 Views
You may also like:
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
✍️गलती ✍️
Vaishnavi Gupta
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
कुछ हंसी पल खुशी के।
Taj Mohammad
✍️आखरी सफर पे हूँ...✍️
'अशांत' शेखर
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
कर रहे शुभकामना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अजब मुहब्बत
shabina. Naaz
तिश्ना तिश्ना सा है आज नफ्स मेरा।
Taj Mohammad
उन्हें क्या पता।
Taj Mohammad
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
कर्म-पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
धरती अंवर एक हो गए, प्रेम पगे सावन में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कैसी तेरी खुदगर्जी है
Kavita Chouhan
" फेसबुक वायरस "
DrLakshman Jha Parimal
ज़रूरी नहीं।
Taj Mohammad
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
आदमी आदमी के रोआ दे
आकाश महेशपुरी
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
मां
Umender kumar
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
मां-बाप
Taj Mohammad
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
“सराय का मुसाफिर”
DESH RAJ
Loading...