Sep 10, 2016 · 1 min read

जवानियाँ प्रणम्य हैं।

हमको दिलातीं याद शहीदों की बार बार देश में बनी हैं जो निशानियाँ प्रणम्य हैं।
प्रेरणा बनी हैं आज बलिदान देने हेतु बलिदानियों की वो कहानियाँ प्रणम्य हैं।
जिनकी रगों में रक्त मारता उबाल रहा रक्त की वो आज भी रवानियाँ प्रणम्य हैं।
भारती के मान स्वाभिमान हेतु जान दे जो गईं हैं जवानियाँ जवानियाँ प्रणम्य हैं।।

प्रदीप कुमार “प्रदीप”

82 Views
You may also like:
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H.
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
पापा वो बचपन के
Khushboo Khatoon
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
पुस्तक समीक्षा-"तारीखों के बीच" लेखक-'मनु स्वामी'
Rashmi Sanjay
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
हायकु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तुम मेरी हो...
Sapna K S
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
नूर
Alok Saxena
मुस्कुराहटों के मूल्य
Saraswati Bajpai
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...