Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2022 · 1 min read

जल है जीवन में आधार

वारि पे वारी जाऊं बिन भूलें उपयोग,
पानी के उद्भव बहुत तरवर ते संयोग.
.
जल की महत्ता पर सुंदर किया बखान.
आओ सब मिलकर पेड़ लगाएं श्रीमान.
.
पानी पाणि वाणी किस किस ने जानी,
जानकर ही उत्थान हुआ सुन अज्ञानी.
.
मेरा मत तेरा नहीं, देख पानी की ढाल.
झुके प्यास बुझाने, देखे अनेक मिशाल.
.
तेरी भव बाधा हरे, तेरे ही निज प्रयास,
घर त्याग जंगल सजे,कैसे हो आभास.

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Mahender Singh Hans

You may also like:
मौनता  विभेद में ही अक्सर पायी जाती है , अपनों में बोलने से
मौनता विभेद में ही अक्सर पायी जाती है , अपनों में बोलने से
DrLakshman Jha Parimal
ना भई ना, यह अच्छा नहीं ना
ना भई ना, यह अच्छा नहीं ना
gurudeenverma198
जो समझदारी से जीता है, वह जीत होती है।
जो समझदारी से जीता है, वह जीत होती है।
Sidhartha Mishra
नौनी लगै घमौरी रे ! (बुंदेली गीत)
नौनी लगै घमौरी रे ! (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
💐प्रेम कौतुक-331💐
💐प्रेम कौतुक-331💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हे री सखी मत डाल अब इतना रंग गुलाल
हे री सखी मत डाल अब इतना रंग गुलाल
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
किरदार
किरदार
Surinder blackpen
"परिपक्वता"
Dr Meenu Poonia
युग बीते और आज भी ,
युग बीते और आज भी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
कवि दीपक बवेजा
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
उम्मीदों के आसमान पे बैठे हुए थे जब,
उम्मीदों के आसमान पे बैठे हुए थे जब,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दिल से मुझको सदा दीजिए।
दिल से मुझको सदा दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
आए अवध में राम
आए अवध में राम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ चुनावी साल...
■ चुनावी साल...
*Author प्रणय प्रभात*
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
विचार
विचार
आकांक्षा राय
वक़्त की रफ़्तार को
वक़्त की रफ़्तार को
Dr fauzia Naseem shad
इतनी उदासी और न पक्षियों का घनेरा
इतनी उदासी और न पक्षियों का घनेरा
Charu Mitra
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
Annu Gurjar
मेरे गीत जामाना गायेगा
मेरे गीत जामाना गायेगा
Satish Srijan
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
Sandeep Mishra
मौत से लड़ती जिंदगी..✍️🤔💯🌾🌷🌿
मौत से लड़ती जिंदगी..✍️🤔💯🌾🌷🌿
Ms.Ankit Halke jha
2305.पूर्णिका
2305.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मन
मन
Dr.Priya Soni Khare
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
नवीन जोशी 'नवल'
*
*"माँ"*
Shashi kala vyas
Loading...