Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2022 · 1 min read

जल की अहमियत

जल ही जीवन है
इसके बिना ना कोय
रह सकता जीवित है
जल का महत्व समझ
हमें ना इसे
व्यर्थ करना होगा।

प्यास लगने पर जब
न मिलता है जल
कितना बौखला उठते हम
उस समय स्मरण होता
जलों का व्यर्थ करना।

आक्रोशते अपनी किस्मत को
पछताते जीवन में हम
जीवन में न पछताना है
तो न व्यर्थ करो जल।

नाम- उत्सव कुमार आर्या
जवाहर नवोदय विद्यालय विष्णुपुर बेगूसराय,बिहार

Language: Hindi
3 Likes · 775 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
मुस्कुराना चाहते हो
मुस्कुराना चाहते हो
surenderpal vaidya
"हास्य कथन "
Slok maurya "umang"
पिता हिमालय है
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
✍️🦋सादगी तो ठीक है फिर उलझन क्यों है🦋✍️
✍️🦋सादगी तो ठीक है फिर उलझन क्यों है🦋✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं आँखों से जो कह दूं,
मैं आँखों से जो कह दूं,
Swara Kumari arya
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Anamika Singh
हम ना सोते हैं।
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
Rohit yadav
साल जो बदला है
साल जो बदला है
Dr fauzia Naseem shad
!! एक चिरईया‌ !!
!! एक चिरईया‌ !!
Chunnu Lal Gupta
हो साहित्यिक गूँज का, कुछ  ऐसा आगाज़
हो साहित्यिक गूँज का, कुछ ऐसा आगाज़
Dr Archana Gupta
✍️अंजाम और आगाज✍️
✍️अंजाम और आगाज✍️
'अशांत' शेखर
हमारी ग़ज़लों ने न जाने कितनी मेहफ़िले सजाई,
हमारी ग़ज़लों ने न जाने कितनी मेहफ़िले सजाई,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"बिन स्याही के कलम "
Pushpraj Anant
*मुझसे मिलने तुम आते 【गीत】*
*मुझसे मिलने तुम आते 【गीत】*
Ravi Prakash
मिलन
मिलन
Gurdeep Saggu
■ दूसरा पहलू
■ दूसरा पहलू
*Author प्रणय प्रभात*
देखो-देखो आया सावन।
देखो-देखो आया सावन।
लक्ष्मी सिंह
Maine jab ijajat di
Maine jab ijajat di
Sakshi Tripathi
जुदाई का एहसास
जुदाई का एहसास
प्रदीप कुमार गुप्ता
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मिट्टी के दीप जलाना
मिट्टी के दीप जलाना
Yash Tanha Shayar Hu
कवित्त
कवित्त
Varun Singh Gautam
कविता
कविता
Shyam Pandey
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
Manisha Manjari
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
कबीरा हुआ दीवाना
कबीरा हुआ दीवाना
Shekhar Chandra Mitra
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
//  जनक छन्द  //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...