Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 16, 2021 · 1 min read

जलियांवाला बाग

अपनी सत्ता बचाने को,
विद्रोह का डर मिटाने को,
उठती आवाजें दबाने को
हुआ था जलियांवाला बाग।
कोई न बच सका था
जो भी था उस मैदान में।
कोई न सोच सका था
कि यह भी होगा अंग्रेजी राज में।
मर्द हो, औरत हो या नवजात हो
किसी को नहीं बख्शा था ‘डायर’ ने
इंसानियत का गला घोंटा था
उस दिन उस कायर ने।
कांप उठते हैं सब लोग
सुनकर कहानी उस बैसाखी की।
और पूछ उठते हैं एक ही सवाल
क्यों हुआ था जलियांवाला बाग?

– श्रीयांश गुप्ता

4 Likes · 149 Views
You may also like:
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
उसका नाम लिखकर।
Taj Mohammad
उड़ चले नीले गगन में।
Taj Mohammad
अपना भारत देश महान है।
Taj Mohammad
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
है पर्याप्त पिता का होना
अश्विनी कुमार
वो आवाज
Mahendra Rai
*अध्यात्म ज्योति :* अंक 1 ,वर्ष 55, प्रयागराज जनवरी -...
Ravi Prakash
मत बना किसी को अपनी कमजोरी
Krishan Singh
बेबस पिता
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हिंदी से प्यार करो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
राम नवमी
Ram Krishan Rastogi
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
ग़ज़ल
kamal purohit
छोड़ दिए संस्कार पिता के, कुर्सी के पीछे दौड़ रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐मनुष्यशरीरस्य शक्ति: सुष्ठु नियोजनं💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोई तो है कहीं पे।
Taj Mohammad
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
Ravi Prakash
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
छोटी-छोटी चींटियांँ
Buddha Prakash
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
गांव का भोलापन ना रह गया है।
Taj Mohammad
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
Loading...