Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जलन

दहक उठी है ये सारी बस्तियाँ किसी के आग में
जलन सी अब मच रही है कोयल की राग में
दुख दुना हो जाता है दूसरों का हर हिसाब देखकर
आँखें भी धोखा देती है उसको कामयाब देखकर
मुँह मोड़ लेता हूँ दूसरों की खुशियों को देख
अब तो वो सहारा भी नहीं है जो पहले था मेरा ईश्वर
आज खिताब मेरे हाथ मे है कल किसी ओर के हाथ में होगा
ललचाएगा भी तब वो मुझे जब उसके साथ किसी दुसरे का नाम होगा
बेगानों की खुशियां देख एक तूफान ऐसा भी उठता है
मेरे सर पर छत दे जाए और दूसरों के ऊपर बारिश का नाच दिखाता है
शर्म से सर भी झूका है, हाथ से कलम भी छुटा है
लोग आगे निकल गए मगर मेरे लिए वक्त वहीं पर रूका है
कल कोई मेरे लिए फिक्र करता था आज दुसरों के लिए मरता है
आग तो अब उस मशाल में लगती है जिसमें पानी का सेतु ढहता है
तालियों की गर्जना मेें एक आवाज एसी भी गूँजती है
जो न चाहते हुए भी मेरा अभिनन्दन करती है
लालसा होती है किसी एक चीज को पीने की अगर दूसरा न ले जाये
खून तो तब खोल उठता है जब कोई हमसे ही पहले बाजी मार ले जाये
खुलें आसमान में अब अपवादों के साये दिखते है
उस शोर की क्या बात करें जिसमें केवल नाम बिकते है
-शिवम राव मणि

1 Like · 279 Views
You may also like:
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
पिता
Meenakshi Nagar
मेरे पापा
Anamika Singh
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
झूला सजा दो
Buddha Prakash
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
बहुमत
मनोज कर्ण
Loading...