Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2023 · 1 min read

“जरा सोचो”

“जरा सोचो”
क्या तुम परिचित हो
इस अटल सत्य से
कि पञ्च तत्व से बना शरीर
उसी में एक दिन
विलीन हो जाएगा,
जरा सोचो
फिर क्या लेकर जाएगा?

10 Likes · 4 Comments · 136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
चाहती हूं मैं
चाहती हूं मैं
Divya Mishra
Green and clean
Green and clean
Aditya Prakash
बाट का बटोही कर्मपथ का राही🦶🛤️🏜️
बाट का बटोही कर्मपथ का राही🦶🛤️🏜️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*जब अंतिम क्षण आए प्रभु जी, बॉंह थाम ले जाना (गीत)*
*जब अंतिम क्षण आए प्रभु जी, बॉंह थाम ले जाना (गीत)*
Ravi Prakash
"छत्रपति शिवाजी महाराज की गौभक्ति"
Pravesh Shinde
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
ह्रदय
ह्रदय
Monika Verma
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
151…. सहयात्री (राधेश्यामी छंद)
151…. सहयात्री (राधेश्यामी छंद)
Rambali Mishra
नजर से मिली नजर....
नजर से मिली नजर....
Harminder Kaur
गीत(सोन्ग)
गीत(सोन्ग)
Dushyant Kumar
हम वीर हैं उस धारा के,
हम वीर हैं उस धारा के,
Sudha Maurya
हिंदी जन-जन की भाषा
हिंदी जन-जन की भाषा
Dr. Sunita Singh
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
Radhakishan R. Mundhra
कल्पनाओं की कलम उठे तो, कहानियां स्वयं को रचवातीं हैं।
कल्पनाओं की कलम उठे तो, कहानियां स्वयं को रचवातीं हैं।
Manisha Manjari
■ तुकबंदी कविता नहीं।।
■ तुकबंदी कविता नहीं।।
*Author प्रणय प्रभात*
" खामोशी "
Aarti sirsat
पहचान के पर अपने उड़ जाना आसमाँ में,
पहचान के पर अपने उड़ जाना आसमाँ में,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
जगदीश लववंशी
👀👁️🕶️मैंने तुम्हें देखा,कई बार देखा🕶️👁️👀
👀👁️🕶️मैंने तुम्हें देखा,कई बार देखा🕶️👁️👀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एहसास पर लिखे अशआर
एहसास पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️रात साजिशों में है✍️
✍️रात साजिशों में है✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल- मयखाना लिये बैठा हूं
ग़ज़ल- मयखाना लिये बैठा हूं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आखिरी दिन होगा वो
आखिरी दिन होगा वो
shabina. Naaz
दीपावली का उत्सव
दीपावली का उत्सव
AMRESH KUMAR VERMA
बाल कविता दुश्मन को कभी मित्र न मानो
बाल कविता दुश्मन को कभी मित्र न मानो
Ram Krishan Rastogi
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
"फितरत"
Ekta chitrangini
हिरण
हिरण
Buddha Prakash
Loading...