Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जय हिंदी जय हिंदुस्तान मेरा भारत बने महान

जय हिंदी जय हिंदुस्तान मेरा भारत बने महान

गंगा यमुना सी नदियाँ हैं जो देश का मन बढ़ाती हैं
सीता सावित्री सी देवी जो आज भी पूजी जाती हैं

यहाँ जाति धर्म का भेद नहीं सब मिलजुल करके रहतें हैं
गाँधी सुभाष टैगोर तिलक नेहरु का भारत कहतें हैं

यहाँ नाम का कोई जिक्र नहीं बस काम ही देखा जाता है
जिसने जब कोई काम किया बह ही सम्मान पाता है

जब भी कोई मिले आकर बो गले लगायें जातें हैं
जन आन मान की बात बने तो शीश कटाए जातें हैं

आजाद भगत बिस्मिल रोशन बीरों की ये तो जननी है
प्रण पला जिसका इन सबने बह पूरी हमको करनी है

मथुरा हो या काशी हो चाहें अजमेर हो या अमृतसर
सब जातें प्रेम भाब से हैं झुक जातें हैं सबके ही सर.

जय हिंदी जय हिंदुस्तान मेरा भारत बने महान

मदन मोहन सक्सेना

252 Views
You may also like:
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Shankar J aanjna
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
अनामिका के विचार
Anamika Singh
Loading...