Oct 18, 2016 · 1 min read

जय बाला जी: मॉग सिया की सेंदुर पूरित: जितेंद्रकमलआनंद( पोस्ट३२)

जयबालाजी:: ताटंक छंद : ३१

मॉग सिया की सेंदुर पूरित ,लख कपि ने भी मल डाला
देखा मॉ ने ,मन में सोचा, सुत कितना भोला- भाला ।
किया ज्ञात जब कारण उनसे , अम्ब आपसे सीखा है।
निहित विपुल कल्याण कंत का , सरल ह्रदय बोले बाला

—- जितेंद्रकमलआनंद

101 Views
You may also like:
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
💐प्रेम की राह पर-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'बेदर्दी'
Godambari Negi
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
Waqt
ananya rai parashar
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
पानी यौवन मूल
Jatashankar Prajapati
ईद में खिलखिलाहट
Dr. Kishan Karigar
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
"मैंने दिल तुझको दिया"
Ajit Kumar "Karn"
राम राज्य
Shriyansh Gupta
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H.
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
# मां ...
Chinta netam मन
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार "कर्ण"
Loading...