Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 3, 2016 · 1 min read

जय देवी***

देवी के मंदिर सर झुका कर
फल-फूल धुप बत्ती
वस्त्र श्रृंगार चढ़ा कर
भक्ति बखान
दण्डवत् नमन तेरा,
पत्थर की मूर्ति पर अपार श्रद्धा
हैरान भगवान भी
हैरान मैं भी
क्यों की तेरी टेड़ी नजर देखी,
मैंने भी और
उसने भी
मुझ जीती जागती देवी पर,
हैरान भगवान भी
हैरान मैं भी,
हैरान हर वो इंसान भी जो देखता है देवी उस पत्थर में भी
मुझ हाड़-मांस में भी,
मैं भी तो देवी हूँ
जीती जागती
मैं नारी हूँ।

****दिनेश शर्मा****

1 Like · 1 Comment · 254 Views
You may also like:
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
Saraswati Bajpai
काश हमारे पास भी होती ये दौलत।
Taj Mohammad
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
*मतलब डील है (गीतिका)*
Ravi Prakash
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
Nurse An Angel
Buddha Prakash
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
बस तेरे लिए है
bhandari lokesh
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
श्रृंगार
Alok Saxena
पक्षियों से कुछ सीखें
Vikas Sharma'Shivaaya'
फादर्स डे पर विशेष पिरामिड कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पिता
Rajiv Vishal
पिता
Shailendra Aseem
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H. Amin
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
तेरी नजरों में।
Taj Mohammad
बुलबुला
मनोज शर्मा
मैं तेरा बन जाऊं जिन्दगी।
Taj Mohammad
फूलों का नया शौक पाला है।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
जीतने की उम्मीद
AMRESH KUMAR VERMA
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
Loading...