Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2021 · 1 min read

जय जय किसान भारत जय जय जवान भारत।

गज़ल
221…..2122……221……2122

दुनियाँ में सबने देखा अपना महान भारत।
जय जय किसान भारत जय जय जवान भारत।

ऐसे न लोग कहते हमको बड़ा जहाँ में,
करता मदद गरीबों की है महान भारत।

दुनियाँ में देखते हैं सब प्यार की नज़र से,
दुनियाँ में बन रहा है अब एक शान भारत।

सब खुद को तौलते हैं भारत की हैसियत से,
सचमुच में बन रहा है ऐसी मीज़ान भारत।

रहते हैं प्यार से सब हिंदू इसाई मुसलिम,
सिख भी गले लगाए है सबकी शान भारत।

प्रेमी हैं प्रेम का हम संदेश दे रहे हैं,
रसखान तुलसी मीरा है सूर ज्ञान भारत।

…….✍️ प्रेमी

164 Views
You may also like:
!! मुसाफिर !!
!! मुसाफिर !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
चांद जमीं पर आकर उतर गया।
चांद जमीं पर आकर उतर गया।
Taj Mohammad
*आर्य समाज (मुक्तक)*
*आर्य समाज (मुक्तक)*
Ravi Prakash
प्रथम अभिव्यक्ति
प्रथम अभिव्यक्ति
मनोज कर्ण
नया साल सबको मुबारक
नया साल सबको मुबारक
Akib Javed
Parents-just an alarm
Parents-just an alarm
Nav Lekhika
आप इसे पढ़ें या न पढ़ें हम तो बस लिखते रहेंगे ! आप सुने ना सुन
आप इसे पढ़ें या न पढ़ें हम तो बस लिखते...
DrLakshman Jha Parimal
✍️सिर्फ गांधी का गांधी होना पर्याप्त नहीं था...
✍️सिर्फ गांधी का गांधी होना पर्याप्त नहीं था...
'अशांत' शेखर
🌺🌺मेरी सादगी को बदनाम ना करो🌺🌺
🌺🌺मेरी सादगी को बदनाम ना करो🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
करो कुछ मेहरबानी यूँ,
करो कुछ मेहरबानी यूँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वास्तविक ख़तरा किसे है?
वास्तविक ख़तरा किसे है?
Shekhar Chandra Mitra
त्रुटि ( गलती ) किसी परिस्थितिजन्य किया गया कृत्य भी हो सकता
त्रुटि ( गलती ) किसी परिस्थितिजन्य किया गया कृत्य भी...
Leena Anand
*नन्ही सी गौरीया*
*नन्ही सी गौरीया*
Shashi kala vyas
Tears in eyes
Tears in eyes
Buddha Prakash
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि’
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
Shyam Sundar Subramanian
मैं तुझमें तू मुझमें
मैं तुझमें तू मुझमें
Varun Singh Gautam
कहानी
कहानी
Pakhi Jain
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही...
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जो मुकद्दर में न लिखा हो तेरे
जो मुकद्दर में न लिखा हो तेरे
Dr fauzia Naseem shad
"नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमसाया
हमसाया
Manisha Manjari
रोशन
रोशन
अंजनीत निज्जर
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
Surinder blackpen
वो कॉलेज की खूबसूरत पलों के गुलदस्ते
वो कॉलेज की खूबसूरत पलों के गुलदस्ते
Ravi Shukla
जनरल विपिन रावत
जनरल विपिन रावत
Surya Barman
■ आज का शेर....
■ आज का शेर....
*Author प्रणय प्रभात*
जस का तस / (नवगीत)
जस का तस / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...