Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2021 · 2 min read

जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)

जय जगजननी ! मातु भवानी…
(भगवती गीत)

जय जगजननी! मातु भवानी,
दया करु माँ कृपा करु,
लियऽ हमरा अपन शरण में,
आब नै सोच विचार करु।

जन्म-जन्म कऽ पाप हरु माँ
तन मन निर्मल भ जायऽ ,
सदिखन रहय मन,अहींक चरण में,
हमरा में एहन भाव भरु ।

जय जगजननी! मातु भवानी…

विपदा सभ में अचल रहय मन,
हर क्षण अहींक ध्यान रहय,
बीत रहल अछि जीवनकै क्षण ,
आब नै तनिक विलंब करु।

जय जगजननी! मातु भवानी…

ई जग झूठा पल-पल हमरा,
भ्रमजाल में घेरैइ या,
ब्रह्मपिशाच जकरल अछि हमरा,
अहीं एकरा सऽ मुक्त करु।

जय जगजननी! मातु भवानी…

सत्य, सनातन,सुंदरि सपना,
जीवन कऽ आनंद बनै ,
सत्कर्म में बीतै जीवन,
एहन कृपा प्रदान करु।

जय जगजननी! मातु भवानी…

दऽ दिअऽ हमरा अविरल भक्ति,
नित्य बहऽ अश्रुधारा,
नित्य अहींक दरसन हो माँ ,
एहन श्रद्धा प्रदान करु।

जय जगजननी! मातु भवानी…

पर्वत शिखरि हिमालय जेहन,
हमर दृढ़ विश्वास रहय,
मन भरमै नऽ आशंका मे,
किछु तऽ अहां निदान करु।

जय जगजननी! मातु भवानी…

जे रिपु ने हमरा,एहेन सतैलक,
ओकरा अहां वशीभूत करु,
दिशाभ्रम ने होय,आब हमरा,
एहन शक्ति प्रदान करु।

जय जगजननी! मातु भवानी…

सद्गुरु के कृपा हमरा पर,
सदिखन एहिना बनल रहय
मोहपाश में फँसु नै आब हम,
एहन दिव्य प्रकाश करु।

जय जगजननी! मातु भवानी…

भूल कोनो ज होय अनजाने में
तत्क्षणि ओकरा क्षमा करब,
अहांकऽ कीर्ति सदा रहै जग में
शीतल छत्र प्रदान करु।

जय जगजननी! मातु भवानी…

कहैय मनोज महामाया से,
हमरा सनि मूढ़ नहिं जग में,
तनिक कृपा भऽ जायत अहांकऽ,
तऽ भवसागर हम पार करी।

जय जगजननी! मातु भवानी…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०६ /०९/२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

Language: Maithili
Tag: कविता
4 Likes · 4 Comments · 878 Views
You may also like:
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
“ राजा और प्रजा ”
DESH RAJ
अनामिका के विचार
Anamika Singh
अधूरी सी प्रेम कहानी
Seema 'Tu hai na'
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
कब तलक आखिर
Kaur Surinder
यादों की बारिश का
Dr fauzia Naseem shad
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
जिंदगी का आखिरी सफर
ओनिका सेतिया 'अनु '
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
चुप रहने में।
Taj Mohammad
जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
गर्दिशे दौरा को गुजर जाने दे
shabina. Naaz
जीतकर ही मानेंगे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आईना
KAPOOR IQABAL
" दर्दनाक सफर "
DrLakshman Jha Parimal
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
नई तकदीर
मनोज कर्ण
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
विद्या पर दोहे
Dr. Sunita Singh
✍️साबिक़-दस्तूर✍️
'अशांत' शेखर
प्रतिकार
Shekhar Chandra Mitra
*किनारे ने डुबाए जो, उन्हें डूबा नहीं मानो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
कर्म का मर्म
Pooja Singh
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
प्रभु आशीष को मान दे
Saraswati Bajpai
भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
Loading...