Oct 18, 2016 · 1 min read

जयबालाजी:: शक्ति महवर माला मॉगे ! जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट ४५)

ताटंक छंद :: ४५
शक्ति महावर – माला मॉगे, भक्ति महावीरी चंदन
राम मॉगते पत्रम् पुष्पम , दास्य भावल, अर्चन- वंदन
यत्र- तत्र- सर्वत्र धरा पर , मंत्र- सूत्रकी ले माला ।
गान करेगी यश बाला का , पराशक्ति बन मधुबाला।।

—– जितेंद्रकमलआनंद

84 Views
You may also like:
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
पिता
Shailendra Aseem
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H.
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr. Alpa H.
रोमांस है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
खामोशियाँ
अंजनीत निज्जर
एक संकल्प
Aditya Prakash
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
याद आते हैं।
Taj Mohammad
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
Loading...