Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2016 · 1 min read

जयबालाजी :: बने न मन वृन्दावन- कानन :: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट ४२)

ताटंक छंद
बने न मन वृन्दावन – कानन , भक्ति नहीं कहलाती है
मिले इष्ट जिससे मनभावन , भक्ति वही कहलाती है
भक्ति सुमति है, भक्ति सुगति है, भक्ति प्रणय राधा वांला
तन से चम्पा, मन से मेंहदी , भक्ति सरल उर, अतिबाला।।४२।।
—- जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
243 Views
You may also like:
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
मुझको मालूम नहीं
gurudeenverma198
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
*केले खाता बंदर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पहले प्यार में
श्री रमण 'श्रीपद्'
लोकतंत्र में तानाशाही
Vishnu Prasad 'panchotiya'
लघुकथा- 'रेल का डिब्बा'
जगदीश शर्मा सहज
हिंदी का वर्तमान स्वरूप एवं विकास की संभावना
Shyam Sundar Subramanian
सुनो मुरलीवाले
rkchaudhary2012
"সালগিরহ"
DrLakshman Jha Parimal
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
गुनाह ए इश्क।
Taj Mohammad
बुद्धिजीवियों के आईने में गाँधी-जिन्ना सम्बन्ध
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*अटल जी की चौथी पुण्यतिथि पर भावपूर्ण श्रद्धांजलि*
Author Dr. Neeru Mohan
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
गुरु ईश्वर के रूप धरा पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'तुम भी ना'
Rashmi Sanjay
हमारी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
मौसम
Surya Barman
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
समय भी कुछ तो कहता है
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मेरे दिल
shabina. Naaz
- मेरा ख्वाब मेरी हकीकत
bharat gehlot
" सामोद वीर हनुमान जी "
Dr Meenu Poonia
✍️तर्कहीन आभासी अवास्तविक अवतारवादी कल्पनाओ के आधार पर..
'अशांत' शेखर
दो पँक्ति दिल से
N.ksahu0007@writer
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
सुनहरी स्मृतियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक था रवीश कुमार
Shekhar Chandra Mitra
Loading...