Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 30, 2022 · 1 min read

जम्हूरियत

कहते हैं यह खेल है जम्हूरियत का,
जनता के जनादेश से सरकार बनती है,
चुनाव के बाद रोज़ समीकरण बदलता है,
रिजॉर्ट में संविधान की दुकान चलती है।

कहते हैं यह खेल है जम्हूरियत का,
यहां आंकड़ों के समक्ष सब झुकते हैं,
राजभवन से अदालत के सफर में,
सियासी बादशाह बनते, बिगड़ते हैं।

कहते हैं यह खेल है जम्हूरियत का,
विचारधारा इसके खिलाड़ी हैं,
बाज़ार में सबकी नुमाइश लगती है,
हर पद की अपनी दिहाड़ी है।

कहते हैं यह खेल है जम्हूरियत का,
जनता की अदालत सर्वोपरि है,
आम आदमी इस सर्कस का जोकर है,
रिंग मास्टर की अपनी मजबूरी है।।

1 Like · 1 Comment · 54 Views
You may also like:
गंगा माँ
Anamika Singh
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
स्वार्थ
Vikas Sharma'Shivaaya'
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
शोर मचाने वाले गिरोह
Anamika Singh
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
O brave soldiers.
Taj Mohammad
✍️ये अज़ीब इश्क़ है✍️
'अशांत' शेखर
गम देके।
Taj Mohammad
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
विचार
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तुझे देखूं सुबह शाम।
Taj Mohammad
Colourful Balloons
Buddha Prakash
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
ज़िंदगी आईने के जैसी है
Dr fauzia Naseem shad
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
*कस्तूरबा गाँधी पक्षी-विहार की सैर*
Ravi Prakash
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
बदरी
सूर्यकांत द्विवेदी
मित्रता दिवस
Dr Archana Gupta
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
अधूरी सी प्रेम कहानी
Seema Tuhaina
निज़ामी आसमां की।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
महबूब
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
“ आत्ममंथन; मिथिला,मैथिली आ मैथिल “
DrLakshman Jha Parimal
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Loading...