Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2022 · 1 min read

जब भी तन्हाईयों में

जब भी तन्हाईयों में आएगी ।
याद तेरी रूला के जाएगी ।।
बे’पनाह तुमसे प्यार है हमको।
ज़ुबाँ तुमसे ये कह न पाएगी ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
9 Likes · 146 Views
You may also like:
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
दीया और अंधेरा
Shekhar Chandra Mitra
"आज बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
शबनम।
Taj Mohammad
पंचशील गीत
Buddha Prakash
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
✍️हैरत है मुझे✍️
'अशांत' शेखर
कृपा करो मां दुर्गा
Deepak Kumar Tyagi
!!!! मेरे शिक्षक !!!
जगदीश लववंशी
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
लक्ष्मी सिंह
सुकून के धागे ...
Seema 'Tu hai na'
एक ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
वक्त
Annu Gurjar
सरकारी चिकित्सक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तम भरे मन में उजाला आज करके देख लेना!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लिख दो ऐसा गीत प्रेम का, हर बाला राधा हो...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
दफन
Dalveer Singh
दुख आधे तो पस्त
RAMESH SHARMA
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
"वो अक्स "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बंकिम चन्द्र प्रणाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पत्र की स्मृति में
Rashmi Sanjay
*दिन कहना नहीं सीखो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
औरत
Rekha Drolia
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्वास्थ्य
Saraswati Bajpai
Loading...