Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 16, 2021 · 1 min read

जब तक मैं कंवारा था

जब तक मैं कंवारा था
मजाक और झूठ का अंतर नही समझ पाया
अब जानता हूँ सच तो लोग खुद से भी नही बोल पाते

जब तक मैं कंवारा था
किसी को दर्द में देख उदास हो जाता था
अब देखता हूं तेहरवीं का जश्न तो छटी से बड़ा होता है

जब तक मैं कंवारा था
मानता था मुझे कोई दर्द नही, मेरी माँ है तो
अब जानता हूँ कुछ दर्द किसी को बताए तक नही जाते

जब तक मैं कंवारा था
लगता था पापा कुछ भी ला सकते है,मेरी खुशी के लिये
अब लगता है बच्चों की खुशी की कीमत जिंदगी के बीस साल होती है

जब तक मैं कंवारा था
आंखों में हूरों के सपने तैरते थे
अब पहचान हुई उनके चेहरों के पीछे कितनी कालिख पुती होती है

जब तक मैं कंवारा था
मुझे बताया गया एक नौकरी और एक पत्नी काफी है
अब बताने से भी कतराता हूँ शर्माजी, वो सब एक गलतफहमी होती है

जब तक मैं कंवारा था
मुझे कुंवारेपन से चिढ़ सी होती थी
अब चाहता हूँ ताउम्र उसी में गुजरती तो अच्छा होता

प्रवीनशर्मा
मौलिक स्वरचित

2 Likes · 2 Comments · 132 Views
You may also like:
शिव और सावन
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दिन बड़ा बनाने में
डी. के. निवातिया
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
नंदन पंडित
प्रियतम
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
काश ! तेरी निगाह मेरे से मिल जाती
Ram Krishan Rastogi
विश्वासघात
Seema Tuhaina
*खिलता कमल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ईद मनाते हैं।
Taj Mohammad
मैं रात-दिन
Dr fauzia Naseem shad
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
ज़िंदगी ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हलाहल दे दो इंतकाल के
Varun Singh Gautam
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
मेरी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️रुसवाई✍️
"अशांत" शेखर
पत्थर के भगवान
Ashish Kumar
लफ़्ज़ों में पिरो लेते हैं
Dr fauzia Naseem shad
अविश्वास
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
जुनू- जुनू ,जुनू चढा तेरे प्यार का
Swami Ganganiya
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
उम्मीद की रोशनी में।
Taj Mohammad
Loading...