Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 1, 2022 · 1 min read

जब उम्मीदों की स्याही कलम के साथ चलती है।

कुछ ख्वाहिशें सिर्फ जेहन तक का सफर करती हैं,
हाथों की लकीरें बस रेखाचित्र बनी फिरती हैं
होठों पे आयी मुस्कान उधार सदृश्य लगती है,
कितनी किस्तों में होगी अदायगी, वही मूल्यांकन करती है।
धूमवान पर्वत पर सरसरी सी नज़र रखती है,
पर अरमानों की चिता अंतर्मन में धधकती है।
जब कन्धों पे जिम्मेवारियाँ विजय पदक सी सजती है,
जीवन नए आयामों के द्वार पे इंतज़ार करती है।
पथरीली सी राहें अब सौम्य पगों का स्वागत करती हैं,
नदियाँ भी तो घाटी में लहू से सनकर बहती हैं।
बारिश की ये बूंदें कच्ची छतों को सजा सी लगती हैं,
वही बारिश न हो तो धरा कराह उठती है।
कितने जतन से ये दरख़्त रसीले फलों से लदती हैं,
क्या कभी दरख़्त भी अपने फलों को चखती हैं?
ये समंदर स्वयं में एक संसार समाये मचलती है,
और आशाएं एक पतवार थामे इसको भी पार करती हैं।
जब उम्मीदों की स्याही कलम के साथ चलती है,
निराशा के ज़खीरों को मरघट के नाम करती हैं।

3 Likes · 13 Comments · 197 Views
You may also like:
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
पिता का दर्द
Nitu Sah
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
Loading...