Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

जन्माष्टमी दोहे : उत्कर्ष

कृष्णपक्ष कृष्णाष्टमी,कृष्ण रूप अवतार ।
हुए अवतरित सृष्टि पे,जग के पालनहार ।।

जन्म हुआ था जेल में,भादो की थी रात ।
द्वारपाल सब सो गए,देख अनोखी बात ।।

✍?नवीन श्रोत्रिय “उत्कर्ष”©
★ ★ ★ ★ ★

2 Likes · 16 Comments · 3072 Views
You may also like:
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
समय ।
Kanchan sarda Malu
पिता
लक्ष्मी सिंह
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
पिता
Meenakshi Nagar
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Shankar J aanjna
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
Loading...