Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

जनता जागरूक नहीं है

विक्रमादित्य ने वेताल को पेड़ से उतार कर कंधे पर लादा और चल पड़ा। वेताल ने कहा- ‘राजा तुम बहुत बुद्धिमान् हो। व्यर्थ में बात नहीं करते। जब भी बोलते हो सार्थक बोलते हो। मैं तुम्हें देश के आज के हालात पर एक कहानी सुनाता हूँ।
विक्रमादित्य ने हुँकार भरी।
वेताल बोला- ‘देश भ्रष्टाचार के गर्त में जा रहा है। भ्रष्टाचार की परत दर परत खुल रही हैं बोफोर्स सौदा,चारा घोटाला, मंत्रियों द्वारा अपने पारिवारिक सदस्यों के नाम जमीनों की खरीद फरोख्त , राम मंदिर-बाबरी मस्जिद की वोट बैंकिंग राजनीति, संसद–विधानसभा में कुश्तम-पैजार, आरक्षण की बंदरबााँँट, न्यायाधीशों पर उठती उँगलियाँ, महँगाई-जनसंख्या पर नियंत्रण खोती सरकार, धराशायी हरित क्रांति, बापू के मायूस तीन बंदर, विदेशी कंपनियों द्वारा भारतीय बाजार हड़पने के नये-नये प्रलोभन, 2जी स्पेूक्ट्रम घोटाला, हिंदी भाषा-हिंदी साहित्याकारों का दर्द, दिन पे दिन बढ़ती जा रही आपराधिक प्रवृत्तियाँ, स्टिंग ऑपरेशंस, विदेशी बैंकों में भारतीयों की जमा करोड़ों की अघोषित दौलत, कबूतरबाजी, आतंकवाद, बम कांड, पुलिस की मजबूरी, बढ़ता गुण्डाराज, ऐसा है हमारा देश। आखिर इसका कारण क्या है राजा? यदि तुमने इसका सही जवाब नहीं दिया तो तुम्हाैरे टुकड़े-टुकड़े हो जायेंगे।’
विक्रमादित्यै ने जवाब दिया- ‘जनता जागरूक नहीं है!!’ राजा कह कर चुप हो गये। थोड़ी देर शांति छाई रही।
वेताल ने अट्टहास किया और बोला- ‘राजा तुम बहुत चतुर हो। एक ही बात में सबका जवाब दे दिया। मैं च–ला–।’ विक्रमादित्यय सम्हलते उसके पहले ही वेताल छूट भागा और पेड़ पर लटक गया।

115 Views
You may also like:
यादें
Sidhant Sharma
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
💐💐प्रेम की राह पर-18💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
मैं और मांझी
Saraswati Bajpai
जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Green Trees
Buddha Prakash
“पिया” तुम बिन
DESH RAJ
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
हर रोज योग करो
Krishan Singh
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
सुंदर बाग़
DESH RAJ
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
मालूम था।
Taj Mohammad
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
माई री [भाग२]
Anamika Singh
चेतना के उच्च तरंग लहराओं रे सॉवरियाँ
Dr.sima
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
ताकि याद करें लोग हमारा प्यार
gurudeenverma198
कारण के आगे कारण
सूर्यकांत द्विवेदी
मैं तुम्हारे स्वरूप की बात करता हूँ
gurudeenverma198
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण
✍️इरादे हो तूफाँ के✍️
"अशांत" शेखर
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
Loading...