Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जनता और जनार्दन

जनता और जनार्दन
………………………
चूनावी जंग को तैयार
नेता जी निकल पड़े
देख सुखियि को रासते में
मन ही मचल पडें
गाड़ी रोक रास्ते में
जमीन पे उतर पड़े।
रोक रास्ता सुखीया का
पूछने लगे हाल
मेरे भाई इस कदर
क्यो लग रहा बेहाल।
आखिर वो वजह क्या
जो तेरा यह हाल है
सर पे छत ना लगता तेरे
ना पौकेट में माल है।
देख सम्मुख नेता जी को
सुखिया कुछ हैरान हुआ।
चीकनी चूपड़ी बातों को
सून-सून कर परेशान हुआ।
बोला मै गरीब हूँ
अब मौत के करीब हूँ
घर है टूटा-फूटा
ना घर में रोटी दाल है
जाडे़ का मौसम चल रहा
कम्बल है ना शाल है।
सुनकर बात सुखिया का
नेता जी सकुचाये,
कुटिल मुस्की लेकर मुख पे
थोड़ा सा मुस्काये।
फिर बोले
इस बार जीता दे मुझे
तेरा घर बनवा दुंगा,
जड़ा हो या गर्मी
कम्बल भी बटवा दुंगा।
जब तक काम ये पूरे ना हों
तब तक चैन न पाऊंगा
मायाधर ने सोचा तब हीं
जन-जन को चूना लगाऊंगा।
मायापति के बातों में
सुखिया आ चूका था
नेता जी की शख्सियत
उसे भा चूका था।
सुखिया खूदको ही
विधायक समझने लगा
हाथ मिलाया मायाधर से
संग- संग चलने लगा।
सोचता रहा मन में
नेता जी उदार है
कितने स्वच्छ, कितने सुन्दर
सरकार के विचार हैं।
इस दफा निश्चय ही
मैं मतदान करूँगा,
अपना ये बहुमूल्य मत
नेता जी के नाम करूँगा।
नेता जी की उदारता
मैं सबको बतलाऊंगा,
अपने साथ सौ दोसौ को
इनके पाले में लाऊंगा।
नेता जी को संग में लेकर
अपने घर वो आया,
गांव में जितने लोग बसे थे
सबको वहाँ बुलाया।
नेता जी ने शुरु की भाषण
जन-जन को भरमाया,
मुफ्त में चावल दाल मिलेगा
जनता को बतलाया।
अबकी जो हम जीत गये
पानी का नल लगवा देंगे,
टूटे-फूटे घर है जितने
पक्के हम बनवाँ देंगे।
हुआ चूनाव नेता जी जीते
दिल सुखिया का तोड़ गये,
जनता से जो किये थे वादे
बन्डल ही वह फोड़ गये।
फिर मौसम निर्वाचन का है
आप भी सुखिया मत बनना,
“सचिन” जो नेता सच्चा लगता
आप उसीको ही चूनना।
लेकिन मतदान पुनः करना।
©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
5/2/2017
जय हिन्द, जय भारत।
जय मेधा,जय मेधावी भारत।

423 Views
You may also like:
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता
Ram Krishan Rastogi
पिता की याद
Meenakshi Nagar
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
पिता
Neha Sharma
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
देश के नौजवानों
Anamika Singh
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अरदास
Buddha Prakash
पिता
Santoshi devi
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
इश्क
Anamika Singh
बहुमत
मनोज कर्ण
दया करो भगवान
Buddha Prakash
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Saraswati Bajpai
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...