Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 23, 2016 · 1 min read

जगी भावना भक्ति,- भाव की ::: जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट८६)

जगी भावना भक्ति – भाव की फिर से लगन लिए ।
रचवा दें प्रभु गीत भक्ति के मधुरिम सपन लिए ।।

कब से तुझे पुकार रहा है ,यह मन पागल है ,
यह वियोग में देखो कैसा आहत, घायल है ।
तेरे दर्शन का मैं प्यासा , दृग मे तपन लिए ।
अब तो आजा राम सखा तू बस जा मेरे हिये ।।

कब होंगे साकार सलोने सपन सुनहरे- से ।
कब पाऊँगा पल अनगिन मैं , रजत रुपहले – से ।
तड़प रहा मिलनातुर तुमसे कैसी अगन लिए ।
होगा कब पावन प्रभु तुमसे मधुर मिलन ,हे प्रिये !!

— जितेन्द्रकमल आनंद

129 Views
You may also like:
प्रार्थना
Anamika Singh
✍️बारिश की आस✍️
"अशांत" शेखर
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
हंस है सच्चा मोती
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️वो कहना ही भूल गया✍️
"अशांत" शेखर
मेरे पापा
Anamika Singh
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
अस्मतों के बाज़ार लग गए हैं।
Taj Mohammad
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
हम कहाँ लिख पाते 
Dr. Alpa H. Amin
योगा
Utsav Kumar Aarya
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
✍️जिंदगी क्या है...✍️
"अशांत" शेखर
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
एक पल,विविध आयाम..!
मनोज कर्ण
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
"अशांत" शेखर
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कहां जीवन है ?
Saraswati Bajpai
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
Loading...