Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 12, 2017 · 1 min read

जख्म आज भी ताजे हो जाते है

जख्म आज भी ताजे हो जाते है
जब यादे बनकर वो पल आँखों के
समक्ष आ जाते है
दर्द होता है उस वक्त जब
सारे किस्से फिर वही गीत गाते है
ना भूल पाते है ना ही भुलाए जाते है
वो पल हकीकत बन फिर सताते है
मोती की माफिक पानी बन बाहर आते है
कभी रातों में जुगनुओं से बतियाते है
तो कभी खुद ब खुद ही बडबडाते है
ख़्वाबों में आने का वादा देकर
रतजगा करा जाते है
बंद पिंजरे में हम फडफडा कर रहे जाते है
अपनी यादों की कफ़स में कैद कर जाते है
खुद ही कफ़स से टकराकर घायल हो जाते है
मरहम की जुस्तजूं में जख्म ही पाते है
हम कश्ती को अपनी वही खड़ा पाते है
किनारे का लालच देकर मंझधार में छोड़ जाते है
हक तो जताते नही ख़्वाबों अपना बना जाते है
डूबती हुई नैया को फिजाओं के साहारे ही
आगे बढाते है
खुद पर हँसते है और वो हमे ऐसे ही छोड़ जाते है
जख्म को फिर ताज़ा कर जाते है
ना अपना बताते है और ना ही
यादों से खुद को दूर कर पते है
वो ख़्वाबों में सताते है, रुलाते है, और
हम टूटी हुई माला की तरह बिखर जाते है

भूपेंद्र रावत
12/09/2017

2 Likes · 366 Views
You may also like:
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Shailendra Aseem
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
बहुमत
मनोज कर्ण
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...