Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2022 · 1 min read

छोड़ दो बांटना

छोड़ दो हर चीज़ को बांटना
हर बात पर अपने पराए को छांटना
ये अपना ये पराया, ये छोटा ये बड़ा
इस तरह जीवन है मुश्किल काटना

बांटें जा रहे परिवार भी आज
महिला पुरुष के नाम पर
मकसद इसका जो भी रहा हो
लेकिन ये अच्छा नहीं है काम पर

बांटना ही है तुमको तो प्यार बांटो
कोई रोक नहीं इसपर बेहिसाब बांटो
प्यार से भरी हो हर ज़िंदगी यहां
इसलिए हर वक्त सिर्फ प्यार बांटो

नफरतों को प्यार ही जीतेगा
है यकीन मुझे आज नहीं तो कल
कब समझेंगे हम ये छोटी सी बात
इन तकरारों में बीत न जाए ये पल

बांटकर जीत सकते है जंग
दिलों को नहीं जीत सकते हम
जो चाहते हो दिलों को जीतना
बांटने का हुनर अब छोड़ दें हम।

Language: Hindi
8 Likes · 254 Views
You may also like:
शहीद की आत्मा
Anamika Singh
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
हम कलियुग के प्राणी हैं/Ham kaliyug ke prani Hain
Shivraj Anand
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
पिता का पता
Abhishek Pandey Abhi
*पुस्तक/ पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
अपने पापा की मैं हूं।
Taj Mohammad
भुलाने की कोशिश में तुझे याद कर जाता हूँ
Writer_ermkumar
✍️वो भुला क्यूँ है✍️
'अशांत' शेखर
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
🙏माँ कूष्मांडा🙏
पंकज कुमार कर्ण
निर्भया के न्याय पर 3 कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
सारे द्वार खुले हैं हमारे कोई झाँके तो सही
Vivek Pandey
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
गज़ल
Sunita Gupta
तनिक पास आ तो सही...!
Dr. Pratibha Mahi
कुछ प्यार है तुम्हारा
Dr fauzia Naseem shad
अदम गोंडवी
Shekhar Chandra Mitra
नसीब
Buddha Prakash
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
दामोदर लीला
Pooja Singh
पितृपक्ष_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दोस्ती
shabina. Naaz
आपातकाल
Shriyansh Gupta
“ मिलकर सबके साथ चलो “
DrLakshman Jha Parimal
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
Loading...