Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

छोड़ दिए संस्कार पिता के, कुर्सी के पीछे दौड़ रहे

छोड़ दिए संस्कार पिता के, हिन्दुत्व बेचकर बैठा है
लड़ता रहते थे पिता जिनसे, साथ में उनके बैठा है
होना चाहिए साथ में जिनके, उन्हें छोड़कर बैठा है
घर न बचा सका खुद का, लुटा लुटाया बैठा है
लोकतंत्र में हिंसकता का,ले रखा है इनने ठेका है

5 Likes · 6 Comments · 165 Views
You may also like:
✍️दम-भर ✍️
'अशांत' शेखर
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
मन की बात
Rashmi Sanjay
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का...
Ravi Prakash
आईना हूं सब सच ही बताऊंगा।
Taj Mohammad
✍️आज तारीख 7-7✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल
Mukesh Pandey
महाराणा प्रताप और बादशाह अकबर की मुलाकात
मोहित शर्मा ज़हन
"शौर्य"
Lohit Tamta
✍️माटी का है मनुष्य✍️
'अशांत' शेखर
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
लिपि सभक उद्भव आओर विकास
श्रीहर्ष आचार्य
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
जय जय तिरंगा
gurudeenverma198
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
जुनून।
Taj Mohammad
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
बन कर शबनम।
Taj Mohammad
"मेरे पापा "
Usha Sharma
खंडहर में अब खोज रहे ।
Buddha Prakash
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
“ WHAT YOUR PARENTS THINK ABOUT YOU ? “
DrLakshman Jha Parimal
आइए रहमान भाई
शिवानन्द सिंह 'सहयोगी'
Loading...