Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2022 · 1 min read

छाँव पिता की

पीढ़ियों से जो पिताजी ,
छाँव बन चलते रहे ।।
धूप सावन और आँगन ,
सब उन्हें छलते रहे
*
काल काला निर्दयी,
क्रूर हुए ह्रदय जन के ।
कहाँ खोते जा रहे ,
रजत मंगलपात्र मन के।
बुझ न पायी उस अयाचित, ज्वाल में जलते रहे ।।
पीढ़ियों से जो पिताजी ,
छाँव बन चलते रहे ।।
*
प्रकाशित नीलाभ संग,
अवनि भर संकल्प लेकर ,
कर्म वेदी बनाई ,
युग युगों की उम्र खोकर ।
नये दिवस नयी रात को ,
क्यों सदा खलते रहे ।।
पीढ़ियों से जो पिता जी,
छाँव बन चलते रहे ।।
*
कोई यदि देता सुखद ,
स्पर्श भर कर तपन का ।
भूल जाते शूल सा
एहसास गहरी चुभन का ।
नेह की बाती बने बस ,
मोम सा गलते रहे ।।
पीढ़ियों से जो पिताजी ,
छाँव बन चलते रहे ।।
– ***
©श्याम सुंदर तिवारी
खण्डवा मध्यप्रदेश

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 1 Comment · 185 Views
You may also like:
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
कैसी तेरी खुदगर्जी है
Kavita Chouhan
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
लागेला धान आई ना घरे
आकाश महेशपुरी
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
“ वसुधेव कुटुम्बकंम ”
DrLakshman Jha Parimal
सच्ची दीवाली
rkchaudhary2012
ब्राउनी (पिटबुल डॉग) की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
* मोरे कान्हा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देव प्रबोधिनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुझको ये जीवन जीना है
Saraswati Bajpai
करते है प्यार कितना ,ये बता सकते नही हम
Ram Krishan Rastogi
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
Advice
Shyam Sundar Subramanian
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
रिंगटोन
पूनम झा 'प्रथमा'
एक और महाभारत
Shekhar Chandra Mitra
शख्सियत - मॉं भारती की सेवा के लिए समर्पित योद्धा...
Deepak Kumar Tyagi
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हौसले मेरे
Dr fauzia Naseem shad
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
Loading...