Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 7, 2022 · 1 min read

छाँव पिता की

पीढ़ियों से जो पिताजी ,
छाँव बन चलते रहे ।।
धूप सावन और आँगन ,
सब उन्हें छलते रहे
*
काल काला निर्दयी,
क्रूर हुए ह्रदय जन के ।
कहाँ खोते जा रहे ,
रजत मंगलपात्र मन के।
बुझ न पायी उस अयाचित, ज्वाल में जलते रहे ।।
पीढ़ियों से जो पिताजी ,
छाँव बन चलते रहे ।।
*
प्रकाशित नीलाभ संग,
अवनि भर संकल्प लेकर ,
कर्म वेदी बनाई ,
युग युगों की उम्र खोकर ।
नये दिवस नयी रात को ,
क्यों सदा खलते रहे ।।
पीढ़ियों से जो पिता जी,
छाँव बन चलते रहे ।।
*
कोई यदि देता सुखद ,
स्पर्श भर कर तपन का ।
भूल जाते शूल सा
एहसास गहरी चुभन का ।
नेह की बाती बने बस ,
मोम सा गलते रहे ।।
पीढ़ियों से जो पिताजी ,
छाँव बन चलते रहे ।।
– ***
©श्याम सुंदर तिवारी
खण्डवा मध्यप्रदेश

2 Likes · 1 Comment · 143 Views
You may also like:
✍️किसान की आत्मकथा✍️
'अशांत' शेखर
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
सुंदर बाग़
DESH RAJ
✍️बोन्साई✍️
'अशांत' शेखर
तेरी कातिल नजरो से
Ram Krishan Rastogi
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
अनोखी सीख
DESH RAJ
जवाब दो
shabina. Naaz
दिया
Anamika Singh
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
✍️चीरफाड़✍️
'अशांत' शेखर
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
ग़ज़ल- फिर देखा जाएगा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ईश्वरीय फरिश्ता पिता
AMRESH KUMAR VERMA
*आज बरसात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
दूर क्षितिज के पार
लक्ष्मी सिंह
*"यूँ ही कुछ भी नही बदलता"*
Shashi kala vyas
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वक्त की कीमत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
✍️मैंने पूछा कलम से✍️
'अशांत' शेखर
मेरे वतन मेरे चमन ,तुम पर हम कुर्बान है
gurudeenverma198
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
Loading...