Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#13 Trending Author
May 9, 2022 · 1 min read

छलकाओं न नैना

आँखों से आँसू तुम न बहाना
बह जायेंगी चाहत की नदियाँ..!!
बेपनाह है चाहत हमारी
पलकों पे सजा रखो सदा…!!
कह दो मन को न बहकावे दिल को
उठेगा दर्द तो…कैसे संभल पाएंगे..!!
मन की आंधी को न तूफान का रूप दो
छलकाओं न नैना वर्ना कैसे जियेंगे यारा… !!!!

81 Views
You may also like:
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
समय
AMRESH KUMAR VERMA
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कर्म पथ
AMRESH KUMAR VERMA
हे ईश्वर!
Anamika Singh
नवगीत -
Mahendra Narayan
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
✍️स्त्री : दोन बाजु✍️
"अशांत" शेखर
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
जूते जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
पिता
Santoshi devi
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
Un-plucked flowers
Aditya Prakash
A Warrior Of The Darkness
Manisha Manjari
अश्रुपात्र... A glass of tears भाग - 4
Dr. Meenakshi Sharma
ऐ वतन!
Anamika Singh
न और ना प्रयोग और अंतर
Subhash Singhai
करोना
AMRESH KUMAR VERMA
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
दर्द भरे गीत
Dr.sima
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
ग़ज़ल
Anis Shah
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
प्रेम
Vikas Sharma'Shivaaya'
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
Loading...