Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

छप्पय छंद “शिव-महिमा”

(छप्पय छंद)

करके तांडव नृत्य, प्रलय जग में शिव करते।
विपदाएँ भव-ताप, भक्त जन का भी हरते।
देवों के भी देव, सदा रीझें थोड़े में।
करें हृदय नित वास, शैलजा सह जोड़े में।
प्रभु का निवास कैलाश में, औघड़ दानी आप हैं।
भज ले मनुष्य जो आप को, कटते भव के पाप हैं।।

*************

छप्पय छंद “विधान”

छप्पय एक विषम-पद मात्रिक छंद है। यह भी कुंडलिया छंद की तरह छह चरणों का एक मिश्रित छंद है जो दो छंदों के संयोग से बनता है। इसके प्रथम चार चरण रोला छंद के, जिसके प्रत्येक चरण में 24-24 मात्राएँ होती हैं तथा यति 11-13 पर होती है। आखिर के दो चरण उल्लाला छंद के होते हैं। उल्लाला छंद के दो भेदों के अनुसार इस छंद के भी दो भेद मिलते हैं। प्रथम भेद में 13-13 यानि कुल 26 मात्रिक उल्लाला के दो चरण आते हैं और दूसरे भेद में 15-13 यानि कुल 28 मात्रिक उल्लाला के दो चरण आते हैं।

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’
तिनसुकिया

1 Like · 277 Views
You may also like:
The Send-Off Moments
Manisha Manjari
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
'अशांत' शेखर
बस चार कंधे
साहित्य गौरव
लबों से मुस्करा देते है।
Taj Mohammad
✍️जिंदगी के अस्ल✍️
'अशांत' शेखर
कलयुग का आरम्भ है।
Taj Mohammad
क्यों भिगोते हो रुखसार को।
Taj Mohammad
आंखों में जब
Dr fauzia Naseem shad
खुद को न मिटने दो
Anamika Singh
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Alpa
#आर्या को जन्मदिन की बधाई#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
✍️मेरे अंतर्मन के गदर में..✍️
'अशांत' शेखर
मेरी छवि
Anamika Singh
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
'बादल' (जलहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
समय और रिश्ते।
Anamika Singh
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
✍️रिश्तेदार.. ✍️
Vaishnavi Gupta
जग के पिता
DESH RAJ
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
Apology
Mahesh Ojha
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
गीता की महत्ता
Pooja Singh
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
Loading...