Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#13 Trending Author
Jun 11, 2022 · 3 min read

छंदों में मात्राओं का खेल

यदि आप दोहा और चौपाई लिखने में अपनी कलम परिपक्व कर लेते है / या है , तब आप मात्राएं घटा बढ़ाकर अनेक मात्रिक छंद लिख सकते है ,

मैं रोटी विषय लेकर कुछ विविध छंदो में ~रोटी लिख रहा हूँ

दोहा छंद में ~(13 – 11)

रोटी ऐसी चीज है , जिसकी गिनो न जात
भूख‌ और यह पेट को , है पूरी‌ सौगात ||
~~
यदि दोहे के विषम चरण में दो मात्राएं बढ़ जाए तब दोही बन जाती है
दोही ( 15- 11)

अब रोटी ऐसी जानिए , जिसकी रहे न जात
भूख‌ और यह तन पेट को , है पूरी‌ सौगात ||
~~~~~~

सोरठा छंद में ~ (11 – 13 विषम चरण तुकांत )
यदि दोहा को उल्टा लिख दिया जाए व तुकांत विषम चरण में मिला दी जाए ,तब सोरठा छंद बन जाता है

इसकी गिनो न जात , रोटी ऐसी चीज है |
है पूरी‌ सौगात , भूख और यह पेट को ||
~~~~

साथी छंद मे- (12 – 11)यदि दोहे के विषम चरण में एक मात्रा कम हो जाए व यति दो दीर्घ हो जाए तब साथी छंद बन जाता है

रोटी कभी न माने , जात पात का फेर |
पेट जहाँ है भूखा , करे अधिक न देर ||
~~~~~

मुक्तामणि छंद में -(13 – 12) यदि दोहे के सम चरण में ग्यारह की जगह 12 मात्रा हो जाए व पदांत दो दीर्घ हो जाए , तब मुक्तामणि छंद हो जाता है

जात न पूंछे रोटियाँ , इसको‌ समझो ज्ञानी |
जिसके घर में पक उठे ,चमके दाना पानी ||
~~~~~~

उल्लाला छंद में -(13 – 13 ) (चारो दोहे के विषम चरण )
यदि दोहे के सम चरण में ग्यारह की जगह तेरह मात्राएं हो जाए ,व पदांत दीर्घ हो जाए तो उल्लाला छंद हो जाता है

सब रोटी को घूमते , रखे सभी यह चाह है |
रोटी भरती पेट है , रोटी नहीं गुनाह है ||
~~~~~

रोला छंद ( 11-13 )
मापनी- दोहा का सम चरण +3244 या 3424
यदि दोहे को उल्टा करके , सम चरण को मापनी से लिखा जाए तो रोला बन जाता है

रोटी का हम गान , लिखें हम रोटी खाकर |
बल का देती दान ,पेट में रोटी जाकर ||
करते हम सम्मान , नहीं है रोटी ‌छोटी |
अपनी कहें दुकान, सभी जन रोजी रोटी ||

रोला में + उल्लाला करने पर छप्पय छंद बन जाता है

रोटी तन का जानिए , अंतरमन शृंगार है |
रोटी जिस घर फूलती , रहती सदा वहार है ||
~~~~~~

बरबै छंद में 12 – 7

रोटी तेरी महिमा , करें प्रकाश |
भूखा पाकर ऊपर , भरे हुलाश ||
~~~~~~
अहीर छंद ( 11 +11 ) चरणांत जगण ही करना होता है

रोटी मिले सुभाष | आता हृदय प्रकाश ||
रोटी बिन सब दीन | निज मुख रहे मलीन ||
~~~~~~~~~

चौपाई छंद में ~( 16 – 16)
रोटी तन का जीवन जानो |
रोटी की सब. महिमा मानो ||
रोटी बिन समझो सब सूखा |
बिन रोटी ‌यह तन है भूखा ‌||
~~~~~~~
सरसी छंद में ~(16- 11)
चौपाई चरण + दोहा का सम चरण

रोटी को जिसने पहचाना , उसको भी भगवान |
कभी न भूखा सोने देते‌, ‌ रखते उसका ध्यान ||
~~~~~~
ताटंक/लावणी छंद में ~,(मुक्तक)16- 14
चौपाई चरण + चौपाई चरण में दो मात्रा कम करके 14 मात्रा या (मानव छंद )

रोटी की महिमा का हमने , इतना तो वस जाना है |
इसके बिन सब सूना सा है , पूर्ण तरह से माना है |
रोटी की जब चाह जगे तब , इसको देना होती है ~
पड़े भूख पर भारी रोटी , इसका ऐ‌सा दाना है |
~~~~~~
पदावली -आधार छंद चौकड़िया छंद

बात न समझो छोटी |
भूख मिटाती जाती रोटी , पतली हो या मोटी ||
रोटी पाकर जो मदमाता , करे बात को खोटी |
कहे गुणीजन उसकी कटती , बीच बजरिया चोटी ||
निराकार वह परम पिता है , हम सब उसकी गोटी |
कहत सुभाषा उसकी रोटी , हर्षित करती बोटी‌ ||
~~~~~~
इस तरह आप कई छंद लिख सकते है , दोहा छंद में एक ही मात्रा घटने बढ़ने पर छंद का नाम बदल जाता है , मेरा मानना कि सभी मात्रिक छंदो में दोहा छंद सभी छंदो का जनक व चौपाई सभी छंदो की जननी है
पटल पर पोस्ट की निर्धारित सीमा है , अन्यथा कई छंदो का उल्लेख करता , जो दोहा चौपाई में मात्रा घटाने बढ़ाने पर बनते है , अत:
(कुछ मनोविनोद के साथ पोस्ट का समापन है )
यदि आज यह महाकवि होते तब यह लिख सकते थे शायद
(मनोविनोद ) उन्हीं के दोहों में रोटी

कबीर दास जी
चलती चक्की देखकर , कबिरा भी हरषाय |
कविरन रोटी सेंककर , मुझको शीघ्र बुलाय ||

रहीम जी
रहिमन रोटी दीजिए , रोटी बिन सब सून |
पानी भी मीठा मिले , समझो तभी सुकून ||

बिहारी कवि
रोटी के‌ सब दोहरे , रोटी‌ की है पीर. |
रोटी खाकर ही झरें , दोहे मुख के तीर ||

कुम्भनदास जी
संतो को मत सीकरी , पड़े न कोई काम |
रोटी हो गरमागरम , कुम्भक का विश्राम ||

महाकवि केशव जी
केशव बूड़ा जानकर , बाबा मुझें बनाय ।
चंद्रवदन मृगलोचनी , रोटी एक थमाय ||

हुल्लण मुरादावादी जी
पहले रोटी खाइए , पीछे लिखना छंद |
बैगन का भुरता तले , समझो परमानंद ||
चकाचक रोटी खायें |
हमे भी वहाँ बुलायें ||

सुभाष सिंघई जतारा

1 Like · 1 Comment · 80 Views
You may also like:
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
अभिलाषा
Anamika Singh
अब तेरा इंतज़ार न रहा
Anamika Singh
राब्ते सबसे अपने
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई इंसान आया..✍️
'अशांत' शेखर
हसद
Alok Saxena
आरजू
Kanchan Khanna
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
पिता
Neha Sharma
✍️मौसम सर्द हुआ है✍️
'अशांत' शेखर
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
गर्दिशे दौरा को गुजर जाने दे
shabina. Naaz
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
तिरंगे महोत्सव पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
सजा मिली है।
Taj Mohammad
अब ज़िन्दगी ना हंसती है।
Taj Mohammad
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
✍️अभी उलझे नहीं✍️
'अशांत' शेखर
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
अपनी नींदें
Dr fauzia Naseem shad
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
अविरल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
Loading...