Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
May 1, 2022 · 1 min read

चेहरा अश्कों से नम था

पेश है पूरी ग़ज़ल…

माना कि जो था वो मेरा वहम था।
पर जिन्दगी के लिए वो बड़ा अहम था।।1।।

हमने तो रूह से मोहब्बत की थी।
जो तुमने किया वह हम पर सितम था।।2।।

दूर जाकर जो अजनबी बन गया है।
राहे सफर में वह हमारा ही हमदम था।।3।।

झूठी मुस्कुराहट थी उसके लबों पर
क्यूंकि उसका चेहरा अश्कों से नम था।।4।।

सूरत के संग सीरत भी थी उसमे।
तभी हर दिल उसका ख्वाहिशमंद था।।5।।

हर परेशानी को आसानी से जीता।
जिंदगी जीने में वह बड़ा हुनरमंद था।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

77 Views
You may also like:
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम...
AJAY AMITABH SUMAN
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
पिता का मर्तबा।
Taj Mohammad
माँ गंगा
Anamika Singh
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
कलम
Dr Meenu Poonia
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
एकाकीपन
Rekha Drolia
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
तेरी नजरों में।
Taj Mohammad
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️माय...!✍️
"अशांत" शेखर
थिरक उठें जन जन,
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरा रूतबा है बड़ा।
Taj Mohammad
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ
Dr Archana Gupta
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
पिता
Madhu Sethi
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां
हरीश सुवासिया
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...