Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 14, 2016 · 2 min read

चूड़ियाँ जब बजतीं हैं

चूडियाँ जब बजतीं है

चूडियाँ जब बजतीं हैं बहुत भली ही लगतीं हैं
*माँ की चूड़ियाँ बजती हैं*
माँ की चूड़ियाँ बजती हैं
सुबह सुबह नींद से जगाने के लिये
माँ की चूड़ियाँ बजती हैं
एक एक कौर बना कर मुझे खिलाने के लिये
माँ की चूड़ियाँ बजती हैं
थपकी दे कर मुझे सुलाने के लिये
माँ की चूड़ियाँ बजती हैं
आर्शीवाद और दुआयें देने के लिये……….
हे! ईश्वर सदा मेरी माँ की चूड़ियाँ
इसी तरह बजती रहें खनकती रहें
ये जब तक बजेंगी खनकेंगी
मेरे पापा का प्यार दुलार
मेरे सिर पर बना रहेगा……
वरना तो मैं कुछ भी नहीं कुछ भी नहीं

*बहन की चूड़ियाँ बजती हैं*

बहन की चूड़ियाँ बजती हैं
मेरी कमर पर प्यार भरा
धौल जमाने के लिये
बहन की चूड़ियाँ बजती हैं
मेरे माथे पर चंदन टीका लगाने के लिये
बहन की चूड़ियाँ बजती हैं
मेरी कलाई पर राखी बाँधने के लिये
बहन की चूड़ियाँ बजती हैं
लड़ने और झगड़ने के लिये
हे! ईश्वर सदा मेरी बहन की चूड़ियाँ
इसी तरह बजती रहें खनकती रहें
ये जब तक बजेंगी साले बहनोई का
रिश्ता रहेगा
और रहेगा भाई बहन का प्यार जन्मों तक……….

*पत्नी की चूड़ियाँ बजती हैं*
पत्नी की चूड़ियाँ बजती हैं
प्रतीक्षारत हाथों से दरवाजा खोलने के लिये
पत्नी की चूड़ियाँ बजती हैं
प्यार और मनुहार करने के लिये
पत्नी की चूड़ियाँ बजती हैं
हर दिन रसोई में
मेरी पसन्द के तरह तरह के
पकवान बनाने के लिये
पत्नी की चूड़ियाँ बजती हैं
जब वह हो जाती है आलिंगनबद्ध
और सिमट जाती है मेरी बाहुपाश में
हे ईश्वर मेरी पत्नी की चूड़ियाँ
इसी तरह बजती रहें खनकती रहें
जब तक ये चूड़ियाँ बजेंगी खनकेंगी
तब तक मैं हूं मेरा अस्तित्व है
वरना, इनके बिना मैं कुछ भी नहीं कुछ भी नहीं

*बेटी की चूड़ियाँ बजती हैं*
बेटी की चूड़ियाँ बजती हैं
पापा पापा करके ससुराल जाते वक्त
मेरी कौली भरते समय
बेटी की चूड़ियाँ बजती हैं
दौड़ती हुयी आये और मेरे
सीने से लगते वक्त
बेटी की चूड़ियाँ बजती हैं
सूनी आँखों में आँसू लिये
मायके से ससुराल जाते वक़्त…….
बेटी की चूड़ियाँ बजती हैं
रूमाल से अपनी आँख के आँसू
पापा से छिपा कर पोंछते वक़्त
हे! ईश्वर मेरी बेटी की चूड़ियाँ
इसी तरह बजती रहें खनकती रहें
जब तक ये बजेंगी खनकेंगी
मैं उससे दूर रह कर भी
जी सकूंगा……खुश रह सकूंगा

*बहू की चूड़ियाँ बजती हैं*
बहू की चूड़ियाँ बजती हैं
मेरे घर को अपना बनाने के लिये
बहू की चूड़ियाँ बजती हैं
मेरे दामन को खुशियों से
भरने के लिये
बहू की चूड़ियाँ बजती हैं
मेरा वंश आगे बढ़ाने के लिये
बहू की चूड़ियाँ बजती हैं
मेरे बेटे को खुश रखने के लिये
हे! ईश्वर मेरी बहू की चूड़ियाँ
सदा इसी तरह बजती रहें खनकती रहें
जब तक ये बजेंगी खनकेंगी
मेरा बुढ़ापा सार्थक है वरना,
इनके बिना तो मेरा जीना ही
निष्क्रिय है निष्काम है
——————आभा सक्सेना देहरादून

7 Likes · 5 Comments · 1191 Views
You may also like:
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
मन
शेख़ जाफ़र खान
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पापा
सेजल गोस्वामी
पिता
Ram Krishan Rastogi
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
दया करो भगवान
Buddha Prakash
गीत
शेख़ जाफ़र खान
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...