Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 22, 2022 · 2 min read

चुप ही रहेंगे…?

चुप ही रहेंगे…?
~~°~~°~~°
परिवार का मुखिया ,
एक ऐसा था फ़रेबी ।
भोला सा मुखड़ा था उसका,
कहता था, हम है बुद्धिजीवी।
धन दौलत घर भरा पड़ा था ,
पर दिल में ईमान कहाँ था ।

सन्तान अनेकों थे मुखिया के ,
पर छोटे में दिल बसता था ।
विषंग,व्यर्थ व्यवहार दिखलाया ,
छोटे को सब जागीर थमाया ।
छोटा पुत्र करी अनेकों शादी,
भोग-विलास का वो,बन गयाआदि ।

और पुत्र सब, व्यथित जब होता,
कहता तुम ,नफ़रत क्यों करते।
रहना हो तो, रहो मिलजुलकर ,
नहीं तो तुम, बन जाओ साधु ।
सब मानव है एक धरा पर ,
लड़ते क्यों हो, जीवन पथ पर।

बड़ा पुत्र, सुनकर बौखलाया,
जुल्म सितम, वो सह नहीं पाया।
पिता,भाई जब हुआ बेकाबू ,
गृह त्याग वो बन गया साधु।
पर्वत पर फिर डेरा जमाया ,
प्रभु कृपा से वरदान वो पाया।

समय भी देखो करवट बदली ,
साधु ने जागीर हथिया ली।
सोचा उसने करूँ कुछ ऐसा ,
फिर भुगते ना कोई, मेरे जैसा।
जब तक मन में असंतोष रहेगा,
कैसे प्यार दिल में पनपेगा।

नीति धर्म की बात हो जग में ,
शिक्षा, कानून समान हो जग में।
पक्षपात पर अड़े न कोई ,
फिर से गुलामी सहे न कोई ।
सब मानव है एक धरा पर ,
कानून भी हो अब,एक बराबर।

लोग अनेकों ऐसे जग में ,
रहता बस उपदेश ही मुख में।
कहते मानव एक यहाँ पर ,
सब जन यहाँ मिलजुलकर रहेंगे ,
समान अधिकार की बात आये जब ,
इस मुद्दे पर चुप ही रहेंगे ।

इस मुद्दे पर चुप ही रहेंगे…?

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २२ /०२/ २०२२
फाल्गुन ,कृष्णपक्ष ,षष्ठी ,मंगलवार
विक्रम संवत २०७८
मोबाइल न. – 8757227201

5 Likes · 2 Comments · 450 Views
You may also like:
तुलसी
AMRESH KUMAR VERMA
रिंगटोन
पूनम झा 'प्रथमा'
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
अग्रवाल समाज और स्वाधीनता संग्राम( 1857 1947)
Ravi Prakash
यूं रो कर ना विदा करो।
Taj Mohammad
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Baby cries.
Taj Mohammad
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
स्वर कोकिला लता
RAFI ARUN GAUTAM
जलवा ए अफ़रोज़।
Taj Mohammad
आंधी में दीया
Shekhar Chandra Mitra
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
An abeyance
Aditya Prakash
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
नागफनी बो रहे लोग
शेख़ जाफ़र खान
Loading...