Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

चुप्‍पी तोड़ें

चुप्‍पी तोड़ें

आतंकियों का धर्म नहीं होता,

आईये इनके विरूद्ध आवाज उठायें,

हमारी चुप्‍पी नासूर बन गई है,

आएं चुप्‍पी तोड़ें देश हित में कुछ काम आएं।

कसाब, अफजल और दाउद के धर्म नहीं हैं,

यह बात सबको बतलाएं,

कट्टरपंथ को चोट करने को,

अपने बच्‍चों को यह ज्ञान सिखलाएं।

बहिष्‍कार करो उन सबका,

जो द्वेष करने को सिखाते हैं,

प्रश्रय दें उन तत्‍वों को हम,

जो प्रेम की धारा बहाते हैं।

इंसानों को खेत करना,

क्‍या यह जिहाद है?

धर्म के नाम पर बहकाकर,

करवा रवा फसाद है।

कश्‍मीर धधक रही है,

आतंकियों के मरने पर,

अमन चैनियों के विरोधियों ने,

बैठा लिया है उन्‍हें सर पर।

कितने हमरे खून बहे,

शांति को मो‍मबत्तियां चला दिये हम,

खूनी खेल का तांडव अब तक रूकी नहीं है,

यह दर्द कब तक सहते रहेगें हम।

द्वेष की बातें दफन करके,

एक जुट हो जाएं हम,

ललकार दें उन्‍हें, जो उड़ा रहे इंसानों को,

लेकर हाथ में गोले-बम।

सत्‍ता सुख के कारण कुछ ने,

फैला दिया समाज में है जहर,

होश नहीं खोयें अब हम,

रोकने चलें आतंकियों के डगर।

—— मनहरण,

120 Views
You may also like:
गांव के घर में।
Taj Mohammad
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तेरे संग...
Dr. Alpa H. Amin
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
पिता
Raju Gajbhiye
शम्मा ए इश्क।
Taj Mohammad
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
✍️'महा'राजनीति✍️
"अशांत" शेखर
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
✍️✍️असर✍️✍️
"अशांत" शेखर
प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ऐसी बानी बोलिये
अरशद रसूल /Arshad Rasool
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
रिश्तों की बदलती परिभाषा
Anamika Singh
✍️झूठा सच✍️
"अशांत" शेखर
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
आदरणीय अन्ना हजारे जी दिल्ली में जमूरा छोड़ गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math
मत करना
dks.lhp
आन के जियान कके
अवध किशोर 'अवधू'
#15_जून
Ravi Prakash
💐 हे तात नमन है तुमको 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
बख्स मुझको रहमत वो अंदाज़ मिल जाए
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
Loading...