चुपके-चुपके मेरे शहर से

दीवाने की मीठी यादें
लाती है दिन-रात हवा।
चुपके-चुपके मेरे शहर से
जाती है दिन-रात हवा।
तितली बन कर
जुगनू बन कर
आती है दिन-रात हवा।।
चुपके-चुपके……’

सूना पड़ा है शहर का कोना
अब भी यादें करता है
पत्‍ता-पत्‍ता, बूँटा-बूँटा
अपनी बातेंं करता है
पाती बन कर
खुशबू बन कर
आती है दिन-रात हवा।
दीवाने की मीठी यादें
लाती है दिन-रात हवा
चुपके-चपुके……’

फिर महकेगा कोना-कोना
सपनों को संसार मिला
शहर की उस वीरान गली को
फिर से इक गुलज़ार मिला
रुनझुन बन कर
गुनगुन बन कर
आती है दिन-रात हवा
दीवाने की मीठी यादें
लाती है दिन-रात हवा
चुपके-चुपके……’

मेहँदी लगी है, हलदी लगी है
तुम आओगे ले बारात
संगी-साथी, सखी-सहेली
बन जाओगे लेकर हाथ
मातुल बन कर
बाबुल बन कर
आती है दिन-रात हवा
दीवाने की मीठी यादें
लाती है दिन-रात हवा
चुपके-चुपके……’

100 Views
You may also like:
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नई तकदीर
मनोज कर्ण
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
जब भी देखा है दूर से देखा
Anis Shah
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
** बेटी की बिदाई का दर्द **
Dr. Alpa H.
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H.
💐💐प्रेम की राह पर-15💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुलंद सोच
Dr. Alpa H.
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
यूं रूबरू आओगे।
Taj Mohammad
इंसाफ हो गया है।
Taj Mohammad
हमने प्यार को छोड़ दिया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
Loading...