Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 10, 2022 · 2 min read

चिड़िया और जाल

चिड़िया खुद जाल में फँस गई शिकारी बस देखता रह गया,
नाव मँझधार में आकर डूब गई मांझी बस देखता रह गया I

कैसा दौर चल रहा है यह कभी हमने सोचा न था ?
इंसान-२ में इतना बड़ा फर्क का माहौल देखा न था ,
छोटे बड़ो के ऐसे दायरे का अंदाज कभी देखा न था ,
गाँव गली में अपने पराये का ऐसा खेल देखा न था I

चिड़िया खुद जाल में फँस गई शिकारी बस देखता रह गया,
नाव मँझधार में आकर डूब गई मांझी बस देखता रह गया I

भूख से लड़ते -२ आदमी जमीन से आसमान में गुम हो गया,
नौनिहालों का बचपन एक-२ रोटी के लिए कुर्बान हो गया,
उसके हाथ कुछ नहीं आया, भूखा था और भूखा ही रह गया,
बाग़ का माली बस केवल मुरझाते फूलों को देखता रह गया,

चिड़िया खुद जाल में फँस गई शिकारी बस देखता रह गया,
नाव मँझधार में आकर डूब गई मांझी बस देखता रह गया I

तड़पते बच्चे की दवा के लिए माँ को दर-२ भटकते देखा,
बहन-बेटियों को अपनी अस्मिता-लाज से लड़ते हुए देखा,
रंगीन कागज के टुकड़ों में इंसानियत को भी बिकते देखा,
दौलत के गरूर में आदमी को कई रूप बदलते हुए देखा I

चिड़िया खुद जाल में फँस गई शिकारी बस देखता रह गया,
नाव मँझधार में आकर डूब गई मांझी बस देखता रह गया I

जो आया है वो एक दिन इस जहाँ को छोड़कर चला जायेगा,
प्यार और नफरत की किताब यहीं पर रखकर चला जायेगा,
“राज” जाते-२ लेखनी से एक इबारत लिखकर चला जायेगा,
प्रेम दे प्रेम मिले दुःख दे दुःख मिले यह कहकर चला जायेगा I

चिड़िया खुद जाल में फँस गई शिकारी बस देखता रह गया,
नाव मँझधार में आकर डूब गई मांझी बस देखता रह गया I
**************************************
देशराज “ राज ”
कानपुर

183 Views
You may also like:
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
✍️✍️जूनून में आग✍️✍️
'अशांत' शेखर
अल्फाजों में लिख दिया है।
Taj Mohammad
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
नादानियाँ
Anamika Singh
आज जानें क्यूं?
Taj Mohammad
खाली पैमाना
ओनिका सेतिया 'अनु '
किसी की आरजू में।
Taj Mohammad
ज़िन्दगी
Rj Anand Prajapati
देखते देखते
shabina. Naaz
✍️बात बात में..✍️
'अशांत' शेखर
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
इक दिल के दो टुकड़े
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
मेरी लेखनी
Anamika Singh
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
✍️पवित्र गीता✍️
'अशांत' शेखर
✍️जिंदगी के अस्ल✍️
'अशांत' शेखर
✍️✍️अतीत✍️✍️
'अशांत' शेखर
हमारे पास करने को दो ही काम है।
Taj Mohammad
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का...
Ravi Prakash
जीवन चक्र
AMRESH KUMAR VERMA
नियमित दिनचर्या
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...