Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2020 · 1 min read

चिराग जलाए नहीं

ll मुक्तक ll

मिलके साथ चलों तो कुछ बात बने ,
सुर नहीं सजे तो कैसे तान बने ।
काली रात में चिराग जलाए नहीं ,
उजाला दिखाकर तुम तो रात बने ।

शेख जाफर खान

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
10 Likes · 6 Comments · 337 Views
You may also like:
#मोहब्बत मेरी
Seema 'Tu hai na'
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आदि शक्ति
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नवगीत: ऐसा दीप कहाँ से लाऊँ
Sushila Joshi
" व्यथा पेड़ की"
Dr Meenu Poonia
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
ज़िंदगी ख़्वाब तो नहीं होती
Dr fauzia Naseem shad
आधुनिकता के इस दौर में संस्कृति से समझौता क्यों
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
अपनों से न गै़रों से कोई भी गिला रखना
Shivkumar Bilagrami
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
*जीवन-साथी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी के अनमोल मोती
AMRESH KUMAR VERMA
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
नया पाकिस्तान
Shekhar Chandra Mitra
लिखता जा रहा है वह
gurudeenverma198
*महाकाल चालीसा*
Nishant prakhar
वक्त ए मर्ग है खुद को हंसाएं कैसे।
Taj Mohammad
“प्यार तुम दे दो”
DrLakshman Jha Parimal
✍️"हैप्पी बर्थ डे पापा"✍️
'अशांत' शेखर
What you are ashamed of
AJAY AMITABH SUMAN
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
गुमूस्सेर्वी "Gümüşservi "- One of the most beautiful words of...
अमित कुमार
अभिलाषा
Anamika Singh
पिता
Satpallm1978 Chauhan
पिता
लक्ष्मी सिंह
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...