Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
May 22, 2022 · 1 min read

चिन्ता और चिता में अन्तर

चिन्ता ही चिता समान है।
चिता मौत का फरमान है।।

चिन्ता जिंदे को जलाती है।
चिता मुर्दे को जलाती है।।

चिता ही अंतिम सच है।
चिन्ता पहला ही सच है।।

चिता को दो गज जमीन चाहिए।
चिन्ता को केवल दिमाग चाहिए।।

चिता में आदमी जलता है।
चिन्ता में आदमी घुलता है।।

चिता तो एक बार जलाती है।
चिन्ता तो बार बार जलाती है।।

चिता तन को जलाती है।
चिन्ता मन को जलाती है।।

चिता लकड़ियों में पहुंचाती है।
चिन्ता, चिता तक पहुंचाती है।।

चिता में बिंदी नही लगती है।
चिंता में बिंदी पहले लगती है।।

चिता,चिन्ता से अच्छी है।
चिन्ता रोगों की गुच्छी है।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

3 Likes · 2 Comments · 212 Views
You may also like:
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
अनोखी सीख
DESH RAJ
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
Mahesh Ojha
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
जंत्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क़ैद में 15 वर्षों तक पृथ्वीराज और चंदबरदाई जीवित थे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]
Anamika Singh
अपना लो मुझे अभी...
Dr. Alpa H. Amin
कुत्ते भौंक रहे हैं हाथी निज रस चलता जाता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम और मैं
Ram Krishan Rastogi
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️पत्थर-दिल✍️
"अशांत" शेखर
ठिकरा विपक्ष पर फोडा जायेगा
Mahender Singh Hans
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
पिता
Ray's Gupta
पहले ग़ज़ल हमारी सुन
Shivkumar Bilagrami
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
अहसान मानता हूं।
Taj Mohammad
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
"अशांत" शेखर
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
किसी की आरजू में।
Taj Mohammad
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमको समझ ना पाए।
Taj Mohammad
Loading...