Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#3 Trending Author
May 17, 2022 · 1 min read

चिड़ियाँ

सुरज के निकलने से पहले ही
उठ जाती है सारी चिड़ियाँ।
ची- ची करके अपने स्वरों से
हम सब को भी उठाती है चिड़ियाँ ।

जोश भरकर अपने अन्दर यह,
त्यागकर आलस का दामन,
रोज साहस और हौंसले के साथ,
आसमान में उड़ान भरती है चिडियाँ।

जीवन का यह कठीन डगर
कैसे साहस और हौसला के बल पर,
हँस कर लड़ा जाता है,
यह पाठ हमें सीखाती है चिड़ियाँ।

विश्वास का दामन पकड़कर
उम्मीद के पंख लिए हुए,
रोज दानों की खोज के लिए
आसमान मे उड़ान भरती है चिड़ियाँ।

नाप आती है आसमान को
अपने छोटे से पंखो के बल पर,
हमें भी अपनी क्षमता पर
विश्वास करना सिखाती है चिड़ियाँ।

तिनका – तिनका इकट्ठा कर
अपना घर बनाती है चिड़ियाँ
अपने चोंच से उसे सुन्दर ढंग
से सजाती है चिड़ियाँ।
पर दूसरों के घोंसले को कभी ,
अपना घर नही बनाती है चिड़ियाँ।

चाहे गर्मी हो, बरसात हो
या हो कड़ाके की ठंड
हर दिन दानों के लिए
संघर्ष करती दिख जाती है चिड़ियाँ।

बड़ी मेहनत से दाना चुनकर
अपने और अपने बच्चों के लिए
लाती है चिड़ियाँ।
पर न कभी थकती है और
न कभी भी हार मानती है चिड़ियाँ।

सोने का पिंजरा छोड़कर
सारी सुख सुविधा छोड़कर
खुले आसमान में ही
जीना पंसद करती है चिड़ियाँ।

आजादी क्या है
और इसका हमारे जीवन मे
क्या महत्व होता है।
यह हर समय, हर पल
हमें समझाती है चिड़ियाँ।

~ अनामिका

5 Likes · 2 Comments · 85 Views
You may also like:
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
✍️दो पंक्तिया✍️
"अशांत" शेखर
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
“ विश्वास की डोर ”
DESH RAJ
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी की अभिलाषा
Dr. Alpa H. Amin
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धरती की फरियाद
Anamika Singh
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
बुआ आई
राजेश 'ललित'
संगीतमय गौ कथा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
तेरा नसीब बना हूं।
Taj Mohammad
इक दिल के दो टुकड़े
D.k Math
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
✍️दो और दो पाँच✍️
"अशांत" शेखर
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
मोहब्बत।
Taj Mohammad
बूंद बूंद में जीवन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रोमांस है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Accept the mistake
Buddha Prakash
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
*इस बार पार कर दो (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
Loading...