Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 22, 2016 · 1 min read

चाह

चाह है
आज कुछ लिखूँ तुम पर
पर क्या
कविता ,छन्द या दोहा
कविता से भी सरस तुम
मुक्तक से स्वच्छन्द तुम
चाह है कुछ लिखूँ
तुम मेरे प्रिय हो
मुझे बडे अजीज हो
लेकिन
महाकाव्य या खण्डकाव्य
लिखूँ मन ने चाह
अभी तो तुमने
दी दस्तक
मेरी जिन्दगी में
बाकी है
तुमको बरतना
जुटा रही हूँ मैं
काव्य साम्रगी
कुछ नजदीकिया
तुम्हारे साथ पूरी
अभी कुछ है बाकी
खण्ड खण्ड जोड
तुम्हारे जीवन का
लिखूँ मैं खण्डकाव्य
तुम भी हो अनावृत
सबकुछ है साफ साफ
रहस्य की परतें खोल
ना करना अब तुम
आँख मिचौली
क्योंकि मैं तुमको
अब समझने लगी हूँ
पढने लगी हूँ
बीते दिन की करतूत
फिर ना दोहरा देना
जैसा कहूँ
मेरा कहना मान लेना
क्योंकि अब तुम
मेरे पन्नों में हो
मेरी लेखनी में
जैसे सूरज उदित
होता वैसे आना
तुम्हारा होता
फिर विलुप्त हो जाते
अगले आगमन तक
कितना कष्टदायी है
आना जाना तुम्हारा
फिर कैसे हो पूरा
मेरा यह खण्डकाव्य
शुक्रिया तुम्हे
मेरे खण्डकाव्य का
विषय हो तुम
दूर सफर है
मन चंचल ना करना
हाथ मेरा जो थामा
सदा सदा सदा

डॉ मधु त्रिवेदी

73 Likes · 261 Views
You may also like:
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
गीत
शेख़ जाफ़र खान
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Keshi Gupta
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता का दर्द
Nitu Sah
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Mamta Rani
Loading...