Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2016 · 1 min read

चाह

वंदना

कविता बन
अम्बर-सी
फैल जाऊं
शून्य सभी
स्वयं में भर
बादल-सी लहराऊं,
जितने भी संतप्त ह्रदय
सन्ताप हैं धरा के
बहा दूं बरस बरस
विस्मृति के सिंधु में।
समस्याओं के नाग
नथ दूं
बिष डंक
गले सडे़ रिवाजों के
मथ दूं,
नहीं चाहिए समृद्धि
नहीं चाहिए
स्वर्ग या मुक्ति,
पर इतना अवश्य हो
कि मेरे देश का
हर आदमी
भरपेट खाये
मैल उसके पास
फटकने न पाये
इतना हो आंचल
मां -बहिना की लाज
ढक जाये ।
हर सिर पर
अपनी हो छत
रोग न पडे सहने
पहनाये सब बच्चों को
शिक्षा के गहने
सुविधा न हो
केवल कुछ की
किरणों-सी हो
सब में बिखरी
रहे न अधूरा
किसी का भी सपना
सब को लगे
यह देश अपना
भगिनी-सा, भाई-सा,
जनक-सा, जाई-सा
प्रभु -सा, प्रभुताई-सा ।

“साक्षी”काव्य संग्रह (1991) से

Language: Hindi
Tag: कविता
318 Views
You may also like:
दिल के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
शिक्षा पर अशिक्षा हावी होना चाहती है - डी के...
डी. के. निवातिया
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
Dushyant Kumar
मां की पुण्यतिथि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वर्षा की बूँद
Aditya Prakash
आत्महत्या ना, क्रांति करअ
Shekhar Chandra Mitra
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
🌺🌻प्रेमस्य आनन्द: प्रतिक्षणं वर्धमानम्🌻🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
दिल की बात
rkchaudhary2012
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
प्यार तुम्हीं पर लुटा दूँगा।
Buddha Prakash
✍️निर्माणाधीन रास्ते✍️
'अशांत' शेखर
"शिवाजी महाराज के अंग्रेजो के प्रति विचार"
Pravesh Shinde
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
# कभी कांटा , कभी गुलाब ......
Chinta netam " मन "
तेरी परछाई
Swami Ganganiya
जर,जोरू और जमीन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
विधवा की प्रार्थना
Er.Navaneet R Shandily
खेल दिवस पर विशेष
बिमल तिवारी आत्मबोध
जिस आँगन में बिटिया चहके।
लक्ष्मी सिंह
शहीद होकर।
Taj Mohammad
तुम
Rashmi Sanjay
दूर रहकर तुमसे जिंदगी सजा सी लगती है
Ram Krishan Rastogi
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कौन थाम लेता है ?
DESH RAJ
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
:::::::::खारे आँसू:::::::::
MSW Sunil SainiCENA
Loading...