Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2021 · 1 min read

पूछो उसकी चाह

गोधूलि लुढ़कती जैसे…
तस्वीर के पीछे छाया
करती आँखें जुगनू के प्यारे
लौट चली विलिन में

ऊपर से ताकता शशि भुजङ्ग
जुन्हाई करूँ या तिमिर में हम
श्याम गगन – सी हो कालिख राख
कहाँ धूल – सी ज्योति विशाल

क्लेश – सी मानव , पूछो उसकी चाह
बन बैठा अश्रु से धोता दिव
धार बन रचाती जलद मीन को
क्या भला कान्ति टर – टर तृषित ?

अकिञ्चन पङ्क्त चहुँओर क्यों विस्तीर्ण ?
दुर्लंध्य असीम क्या धुँधुआते क्यों ?
प्रतिबिम्ब भी नहीं तीक्ष्ण त्याज्य को
सुषुप्त है यह या जाग्रत नहीं कबसे ?

चिन्मय चिर नहीं चेतन कहाँ से ?
कौन दे इसे शक्ति विरक्त झिलमिल ?
यह देह नहीं , बिकने का सार !
मशक्कत मेरी भूख से तड़पन क्यों ?

यह तस्वीर के मजहब पूछो जरा…
गोरा – काला नहीं , क्या जाति तेरा ?
उँच – नीच अपृश्य नहीं , मुफलिस हूँ मै
चिर नहीं मसान में भव से निष्प्रभ

Language: Hindi
Tag: कविता
234 Views
You may also like:
वैदेही का महाप्रयाण
वैदेही का महाप्रयाण
मनोज कर्ण
डिजिटलीकरण
डिजिटलीकरण
Seema gupta,Alwar
■ बड़ी सीख
■ बड़ी सीख
*Author प्रणय प्रभात*
बेटियां
बेटियां
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
बाल दिवस पर विशेष
बाल दिवस पर विशेष
Vindhya Prakash Mishra
💐अज्ञात के प्रति-137💐
💐अज्ञात के प्रति-137💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दो शरारती गुड़िया
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
परदेशी
परदेशी
Shekhar Chandra Mitra
हम स्वार्थी मनुष्य
हम स्वार्थी मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
खुशियों से भी चेहरे नम होते है।
खुशियों से भी चेहरे नम होते है।
Taj Mohammad
सर्दी
सर्दी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Music and Poetry
Music and Poetry
Shivkumar Bilagrami
आज की प्रस्तुति: भाग 7
आज की प्रस्तुति: भाग 7
Rajeev Dutta
जीने की कला
जीने की कला
Shyam Sundar Subramanian
राजनीति हलचल
राजनीति हलचल
Dr. Sunita Singh
“ टैग मत करें ”
“ टैग मत करें ”
DrLakshman Jha Parimal
मेरी आंखों के ख़्वाब
मेरी आंखों के ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
नया दौर है सँभल
नया दौर है सँभल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️अस्तित्वाच्या पाऊलखुणा
✍️अस्तित्वाच्या पाऊलखुणा
'अशांत' शेखर
*अखिल भारतीय साहित्य परिषद की विचार-गोष्ठी एवं काव्य-गोष्ठी*
*अखिल भारतीय साहित्य परिषद की विचार-गोष्ठी एवं काव्य-गोष्ठी*
Ravi Prakash
अलविदा
अलविदा
Dr Rajiv
बनारस की गलियों की शाम हो तुम।
बनारस की गलियों की शाम हो तुम।
Gouri tiwari
बुनते हैं जो रात-दिन
बुनते हैं जो रात-दिन
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
परछाइयों के शहर में
परछाइयों के शहर में
Surinder blackpen
कविता (घनाक्षरी)
कविता (घनाक्षरी)
Jitendra Kumar Noor
जिसकी फितरत वक़्त ने, बदल दी थी कभी, वो हौसला अब क़िस्मत, से टकराने लगा है।
जिसकी फितरत वक़्त ने, बदल दी थी कभी, वो हौसला...
Manisha Manjari
नादां दिल
नादां दिल
Pratibha Kumari
सुख और दुःख
सुख और दुःख
Saraswati Bajpai
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
Ankita Patel
बदल दी
बदल दी
जय लगन कुमार हैप्पी
Loading...